केंद्र सरकार ने महंगाई की खेप जारी कर गरीब के पेट पर मारी लात : Rajendra Jar

Spread the News

हमीरपुर : जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेंद्र जार ने सोमवार को प्रैस बयान जारी करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने देश पर महंगाई की एक बड़ी खेप जारी कर फिर एक बार गरीब के पेट पर लात मारी है। अब आटा, चावल व अन्य खाद्य वस्तुओं पर भी जीएसटी लगा कर आमजन की पहुंच से बाहर कर दिया है। भाजपा के नेतृत्व में इस जन विरोधी पूंजीवादी प्रवति की सरकार को इस गरीब देश की जनता कभी माफ़ नहीं करेगी जिसके शासनकाल में हीरे पर तो 1.5 प्रतिशत जीएसटी है और आटे पर 5 प्रतिशत है। अब तो बड़े कॉर्पोरेट घरानों के पास गिरवीं मोदी सरकार ने उन्हें और धनशाली बनाने के लिए सुखी रोटी पर भी टैक्स लगा दिया है।

राजेंद्र जार ने कहा कि कांग्रेस पार्टी यह जानकर बुरी तरह स्तब्ध है की देश के आम जन को पहले बीज, अनाज व दालों की क्लीनिंग पर 5 प्रतिशत की बजाए अब भारी भरकम 18 प्रतिशत जीएसटी चुकाना पड़ेगा। आधारभूत रोजमर्रा खाने की वस्तुओं अंडे, फल, पनीर, दहीं, मछली, कृषि पदार्थों की क्लीनिंग व अन्य कई खाद्य पदार्थों पर 5 प्रतिशत जीएसटी लगाकर किसान मजदूर और गरीब की महंगाई से कमर तोड़ दी है। दूसरी और शिक्षा से संबंधित वस्तुओं पर भी 18 प्रतिशत जीएसटी लगाकर पढ़ने वाले बच्चों के भविष्य से भी खिलवाड़ किया है।

स्वास्थ्य संबंधित सुविधाओं को भी जीएसटी के दायरे में लाकर केन्द्र सरकार ने एक और अपने असंवेदनशील होने का परिचय दिया है। भाजपा सरकार किसानों से अपनी दुश्मनी निभाती ही चली आ रही है। उन्होंने कहा कि सरकार के इन जनविरोधी फैसलों से ऐसा प्रतीत होता है की केंद्र सरकार अंत की और अग्रसर है प्रदेश सरकार पहले ही हथियार डालती नजर आ रही है।