अंतिम चरण में पहुंची बाबा बर्फानी की यात्रा, 2 दिनों में 580 यात्री दर्शनों के लिए हुए रवाना

Spread the News

लखनपुर : पवित्र श्री अमरनाथ यात्रा के लिए श्रद्धालुओं का राज्य के प्रवेशद्वार लखनपुर से आगमन तो जारी है परंतु अब यात्रा अपने अंतिम पड़ाव पर पहुंच चुकी है। जम्मू कश्मीर प्रशासन को अंदेशा था कि इस बार अमरनाथ यात्रा में 5-7 लाख के करीब अमरनाथ यात्री यात्रा के लिए आ सकते हैं, जिस कारण लखनपुर से लेकर अमरनाथ गुफा तक जम्मू कश्मीर प्रशासन द्वारा यात्रियों की सुविधा के लिए बेहतर इंतजाम किए गए थे। क्योंकि पिछले 2 वर्षों तक कोरोना महामारी के कारण यात्रा बंद रही, लेकिन अमरनाथ यात्रा के दौरान मौसम में बार-बार तब्दीली और अमरनाथ गुफा के समीप बादल फटने और यात्रियों की मौत हो जाने और बाबा बर्फानी का समय से पहले पिघल जाने से यात्रियों की तादाद में काफी कमी आ गई।

लखनपुर प्रवेशद्वार से सड़क मार्ग से श्री अमरनाथ श्रद्धालुओं की संख्या में अब लगातार कमी आ गई है। वहीं अब यह संख्या 500 से भी कम हो गई है। एक तरह से यात्रा अब अंतिम चरण पर पहुंच चुकी है। यात्रियों की तादाद कम होने से 6 अगस्त के आसपास लखनपुर अमरनाथ यात्री कैंप बंद कर दिया जाएगा। लंगर लगाने वाले दल यात्रियों की जी जान से सेवा करते हैं और लाखों करोड़ों रुपया खर्च कर दूर पहाड़ियों में यात्रियों को भोजन उपलब्ध करवाते हैं और कई प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजन बनाकर यात्रियों की सेवा करते हैं।

वहीं इक्का-दुक्का लोग जो अमरनाथ यात्रा जा रहे हैं। वह बम-बम भोले की जयघोष करते हुए आगे बढ़ते जा रहे हैं। लखनपुर में पहुंचते ही श्रद्धालु पूरे जोश और उत्साह से बाबा की जयघोष करना शुरू कर देते हैं। कठुआ जिले की हद में पड़ते लखनपुर से लेकर लौंडी मोड़ तक बाबा के भक्तों द्वारा जयघोष किए जाने से माहौल शिवमय बना हुआ है,लेकिन इन लंगरों मे यात्रियों की तादाद अब काफी कम है। लेकिन जो यात्री अमरनाथ यात्रा पर जा रहे हैं उनका उत्साह देखते ही बनता है, जिसमें बाबा के भजन में मस्त श्रद्धालु बम-बम भोले की जयघोष कर शिवभक्ति में सराबोर हो रहे हैं।