Kargil war: ‘ऑपरेशन विजय’ के शहीद सैनिकों को अनोखी श्रद्धांजलि, Point-5140 को दिया गया ‘Gun Hill’ का नाम

Spread the News

जम्मू-कश्मीरः कारगिल युद्ध की ऐतिहासिक जंग को भला कौन भूल सकता है, 26 जुलाई 1999 में हुई इस जंग में भारतीय सेना के जवानों ने ‘ऑपरेशन विजय’ को सफलतापूर्वक अंजाम दिया था और कारगिल के प्वाइंट-5140 पर तिरंगा फहराया था। भारतीय सशस्त्र बलों की उसी शानदार जीत का जश्न मनाने के लिए भारतीय सेना ने एक अहम कदम उठाया है।

दरअसल, कारगिल सेक्टर में ‘ऑपरेशन विजय’ में गनर्स व सैनिकों के सर्वोच्च बलिदान को श्रद्धांजलि देने के लिए द्रास में प्वाइंट-5140 को ‘गन हिल’ नाम दिया गया है। गौरतलब है कि 1999 में पाकिस्तान ने कारगिल पर छ्द्म हमला किया था, जिसमें 527 वीर सैनिकों ने शहादत देकर प्वाइंट 5140 पर तिरंगा लहराया और अपनी जीत का ऐलान किया। कारगिल का यह युद्ध 18 हजार फीट की ऊंचाई पर तकरीबन 2 महीने तक चला था, जिसमें 1300 से ज्यादा सैनिक इस जंग में घायल हुए।

शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा जब 1 जून 1999 को कारगिल युद्ध के लिए गए तो उनके कंधों पर राष्ट्रीय श्रीनगर-लेह मार्ग के ठीक ऊपर चोटी 5140 को पाकिस्तानी फौज से आजाद करवाने की जिम्मेदारी थी। कैप्टन विक्रम बत्रा ने अपने साथियों की वीरता के दम पर 20 जून 1999 को लगभग 3:30 मिनट पर ‘गन हिल’ को कब्जे में लिया और जीत का डंका बजाते हुए तिरंगा लहराया। विक्रम बत्रा की ही अगुवाई में ही चोटी 4875 को आजाद करवाने का अगला पड़ाव शुरू हुआ लेकिन घायल साथी लेफ्टिनेंट नवीन को बचाते हुए विक्रम बत्रा के सीने में गोली लगी और वो शहीद हो गए। उनकी इस कुर्बानी को देश कभी नहीं भूल पाएगा।