संसद में Harsimrat Badal ने उठाया महंगाई का मुद्दा, कहा-पूरे करो किसान आंदोलन समाप्ति पर किए वायदे

Spread the News

नई दिल्ली: बठिंडा की सांसद हरसिमरत कौर बादल ने आज संसद में महंगाई पर चर्चा करते हुए कहा कि स्वामीनाथन रिपोर्ट के अनुसार C-2 और 50 प्रतिशत लाभ का फॉर्मूला तुरंत लागू किया जाए। उन्होंने कहा कि फसलों के एमएसपी को कानूनी दर्जा दिया जाए तथा पेट्रोलियम एवं रसोई गैस की कीमतें कम की जाएं। महंगाई पर चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि एनडीए सरकार इस मामले पर राजनीति कर रही है। देश में डीजल, खाद और कीटनाशकों के दाम पिछले 8 सालों में सौ गुना बढ़ गए हैं। जबकि किसानों के लिए एमएसपी में महज 2% की बढ़ोतरी की गई है। उन्होंने कहा कि इसका किसानों और आम आदमी पर गंभीर प्रभाव पड़ रहा है, क्योंकि सभी आवश्यक वस्तुओं की कीमतें आसमान छू रही हैं।

सांसद हरसिमरत ने कहा कि भाजपा ने 2015 में दावा किया था कि किसानों की आय दोगुनी हो जाएगी, अब 8 साल बीत चुके हैं और वास्तव में किसानों की आय में कमी आई है। उन्होंने मांग की कि केंद्र सरकार 9 दिसंबर 2021 को किसान आंदोलन समाप्ति पर किए गए वायदे को पूरा करे और फसलों के एमएसपी को कानूनी दर्जा दे। उन्होंने एमएसपी समिति में उन्हीं 26 सदस्यों को नामित करने के लिए सरकार की आलोचना की, जिन्होंने कृषि कानून बनाए थे। यह किसानों के साथ भद्दा मजाक है। उन्होंने अपील की कि किसानों और आम लोगों को सत्ता हासिल करने के लिए मोहरे के रूप में इस्तेमाल नहीं किया जाए।