PA द्वारा रिश्वत मांगने का मामला: MLA Randhawa की सफाई- इस नाम से मेरा कोई PA नहीं, आरोप साबित हुए तो छोड़ दूंगा राजनीति

Spread the News

चंडीगढ़: पंजाब के डेराबस्सी से आम आदमी पार्टी के विधायक कुलजीत रंधावा के PA द्वारा रिश्वत मांगने के आरोप में अब वह घिरते जा रहे हैं। विरोधियों के निशाने पर आए रंधावा ने खुद पर सवाल उठते देखे तो वीडियो जारी कर इस सारे मामले पर अपनी सफाई दी और कहा कि इस नाम से मेरा कोई पीए नहीं है और अगर यह आरोप साबित होते हैं तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा। एक वीडियो जारी विधायक रंधावा ने सफाई देते हुए कहा कि यह उसी थानेदार का बयान है कि मेरे पास से कोई पैसा नहीं मांगा गया है। ना मैं एमएलए साहब को मिला और ना ही मुझे किसी का फोन आया। दूसरी तरफ जो वीडियो बना रहा है वह मानसिक रोगी हैं। मैं अपने हल्के वासियों को कहना चाहता हूं कि प्रशासन जो भी कार्रवाई करेगा चाहे इसमें मेरा पार्टी का वर्कर हो या परिवार का मेंबर हो, जिसका भी नाम आएगा उसे बख्शा नहीं जाएगा। रंधावा ने आगे कहा कि आप विधानसभा जाकर चाहे चेक कर लेना मेरे पास नितिन नाम का कोई पीए नहीं है मेरा 35 सालों का राजनीति में करियर है और इस दौरान आप यह साबित कर दो कि मैनें किसी से पैसा खाया हो तो मैं आज ही राजनीति छोड़ दूंगा।

क्या है मामला?

बता दें कि बीते दिन आम आदमी पार्टी के जिला व्यापार मंडल के ज्वाइंट सेक्रेटरी विक्रम धवन ने अपनी ही पार्टी के विधायक के पीए द्वारा चौंकी इंचार्ज से पैसे मांगने के आरोप लगाए थे। जिसकी शिकायत उन्होंने मुख्यमंत्री भगवंत मान द्वारा जारी किए एंटी क्रप्शन हेल्पलाइन नंबर पर की थी। इस मामले के संबंध में जानकारी देते हुए विक्रम धवन निवासी सिंह वार्ड नंबर -4 बलटाना जो कि इसी वार्ड में आम आदमी पार्टी के इंचार्ज है ने आरोप लगाया था कि जब बरमा सिंह बलटाना चौकी इंचार्ज थे तो उनका एक मामला थाने में चल रहा था। इस बीच बरमा सिंह को अचानक चौकी इंचार्ज से हटाकर जीरकपुर थाने में ट्रांसफर कर दिया गया। विक्रम धवन ने बरमा सिंह को कॉल कर अपने केस के बारे में जानकारी लेने के लिए कॉल कि जिस में बर्मा सिंह विक्रम धवन को केस की जानकारी देने के बाद विधायक द्वारा पीए भेजकर पैसे मांगने कि बात कही।

वायरल हो रही रिकॉर्डिंग

वहीं इस सारे मामले की एक कॉल रिकॉर्डिंग भी वायरल हो रही है जिसमें विक्रम धवन और बरमा सिंह की बातचीत में विधायक रंधावा के पीए नितीन लूथरा ने एक लाख रूपये मांगे और जब पैसे नहीं दिए तो तबादला करने की बात भी कही। इस बातचीत की आडियो रिकार्डिंग विक्रम धवन के पास मौजूद है जो उन्होंने अपनी शिकायत के साथ सबूत के तौर पर भेजी है। विक्रम धवन यह भी दावा कर रहा है कि उसके पास इस आरोप से संबंधित अन्य दस्तावेज भी हैं जो वह समय आने पर दिखाएगा। यह आडियो रिकार्डिंग सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही है।