पंजाब पुलिस और बीएसएफ ने सीमावर्ती जिलों में दस घंटे तक चलाया जांच एवं तलाशी अभियान

Spread the News

चंडीगढ़ : पंजाब पुलिस ने सीमा पार से मादक पदार्थ एवं हथियारों को लाने वाले ड्रोनों के विरूद्ध चौकसी बढ़ाते हुए सात सीमावर्ती जिलों में बीती रात दस घंटे तक सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के साथ मिलकर तलाशी अभियान चलाया।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (कानून व्यवस्था) नरेश अरोड़ा ने कहा, ‘‘करीब 100 नाके लगाए तथा आईजी और डीआईजी रैंक के अधिकारियों के नेतृत्व में लगभग 2,500 पुलिस र्किमयों ने तलाशी अभियान में हिस्सा लिया।’’ यह अभियान ऐसे समय चलाया गया है, जब पंजाब में ड्रोनों एवं अन्य तरीकों से भारी मात्र में हेरोइन, हथियार एवं गोलाबारूद के खेप पहुंचाये जा रहे हैं। पंजाब और पाकिस्तान के बीच 553 किलोमीटर लंबी अंतरराष्ट्रीय सीमा है।

शुक्रवार को जारी किये गये आधिकारिक बयान में कहा गया, ‘‘ इस अभियान का मुख्य लक्षय़ सीमावर्ती क्षेत्रों में मादक पदार्थ, हथियार, गोला-बारूद, विस्फोटक और हथगोले लाने वाले ड्रोन पर नजर रखना था।’’ उसमें कहा गया है, ‘‘ यह इस बात के संकेत हैं कि राष्ट्रविरोधी तत्व सीमावर्ती राज्य में शांति एवं सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने की बड़ी चेष्टा कर रहे हैं।’’ पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) गौरव यादव ने यहां कहा कि पठानकोट, गुरदासपुर, बटाला, अमृतसर, तरण तारण, फिरोजपुर और फाजिल्का में यह अभियान चलाया गया।

उन्होंने पंजाब पुलिस एवं बीएसएफ के बीच पूर्ण समन्वय एवं टीमवर्क का आह्वान करते हुए कहा कि यही समय है कि दोनों शीर्ष बल सीमापार से इस नये खतरे का मुकाबला करने के लिए एक टीम की भांति मिलकर काम करें। यादव ने कहा कि इस अभियान में सीमावर्ती जिलों में करीब 100 स्थानों पर पूरी रात नाका लगाना तथा उसके बाद संदिग्ध मकानों एवं गांवों की विशेष तलाशी एवं घेराबंदी शामिल था।उन्होंने कहा कि इस अभियान में सात जिलों के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों ने अधिकतम संख्या में पुलिसर्किमयों को लगाया। बीएसएफ पर पाकिस्तान और बांग्लादेश से लगी देश की सीमा की सुरक्षा का जिम्मा है।