Kullu का International Festival दशहरा 5 से 11 October तक : Govind Singh Thakur

Spread the News

कुल्लू : कुल्लू का सुप्रसिद्ध अंतर्राष्ट्रीय लोक नृत्य उत्सव दशहरा इस वर्ष 5 से 11 अक्तूबर तक मनाया जाएगा। यह जानकारी शिक्षा व कला, भाषा एवं संस्कृति मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने शुक्र वार को जिला परिषद सभागार कुल्लू में अंतर्राष्ट्रीय दशहरा पर्व-2022 के आयोजन को लेकर बुलाई गई बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी। उन्होंने कहा कि बीते दो सालों तक दशहरा पर्व कोरोना महामारी के चलते केवल प्रतीकात्मक तौर पर ही मनाया जा सका, लेकिन इस बार दशहरा का आयोजन बडे पैमाने पर और हर्षोंल्लास के साथ मनाया जाएगा। इसे आजादी के अमृत महोत्सव से जोड़ा जाएगा। गोविंद ठाकुर ने जिला प्रशासन से दशहरा उत्सव को मनाने के लिये अभी से तैयारियां में जुट जाने को कहा। इसके लिए उन्होंने जिला प्रशासन को अलग-अलग समितियां गठित करने के लिए कहा।

उन्होंने कहा कि ‘स्मारिका’ उत्सव की शान होती है जो उत्सव की स्मृतियों को संजोकर रखने का कार्य करती है। इसे एक नये स्वरूप में प्रकाशित किया जाएगा। स्मारिका में नवोदित लेखकों व इतिहासकारों के लेख शामिल किए जाएंगे। शिक्षा मंत्री ने कहा कि सांस्कृतिक संध्याएं 2 साल बाद आयोजित की जाएंगी। सभी संध्याएं आकर्षक और शानदार होनी चाहिए। अंतर्राष्ट्रीय स्तर के कलाकारों को भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद व दूतावासों के माध्यम से आमंत्रित करने के लिये अभी से पत्नाचार करें। मंत्री ने कहा कि कुल्लू शहर में सड़कों, बिजली और पेयजल लाइनों की मुरम्मत, सफाई व्यवस्था, ढालपुर मैदान और देवीदेवताओं के अस्थायी स्थलों के सौंदर्यीकरण के कार्य सितंबर में ही पूरे हो जाने चाहिए।

उन्होंने बताया कि दशहरा उत्सव के लिए जिला के देवी-देवताओं को आयोजन समिति की ओर निमंत्रण पत्र भेजे जाएं। उन्होंने कहा कि देवी-देवता ही कुल्लू के दशहरा उत्सव की शान हैं। देवीदेवताओं और इनके साथ आने वाले देवलुओं को आयोजन समिति की ओर से सभी आवश्यक सुविधाएं मुहैया करवाई जाएंगी। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से कहा कि इन सुविधाओं में किसी प्रकार की कमी नहीं होनी चाहिए। इसके लिए अलग से समिति का गठन किया जाए। गोविंद ठाकुर ने कहा कि मेला स्थल पर प्लाट आबंटन 25 सितंबर से पूर्व आरंभ कर दिया जाएगा और आबंटन प्रक्रि या में पूरी पारिदर्शता सुनिश्चित की जाएगी। बैठक की कार्यवाही का संचालन अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी प्रशांत सरकैक ने किया। उन्होंने एजैंडा पढ़ा जिसपर मदवार विस्तारपूर्वक चर्चा की गई।