MLA Balraj Kundu ने CET परीक्षा, सरकारी स्कूलों का मुद्दा सदन में उठाया, बोले-11 लाख बच्चों के भविष्य का सवाल

Spread the News

चंडीगढ़ : हरियाणा के महम से आजाद विधायक और जनसेवक मंच के संयोजक बलराज कुंडू लगातार विधानसभा में संजीदा और गंभीर मुद्दे उठाते आ रहे हैं। मंगलवार को मानसून सत्र के दूसरे दिन भी बलराज कुंडू ने सदन में सीईटी परीक्षा के अलावा प्रदेश में विद्यार्थियों की कम संख्या का बहाना लेकर बंद किए सरकारी स्कूलों के बारे में जानकारी मांगी। विधायक कुंडू ने कहा कि सीईटी परीक्षा को लेकर संशय की स्थिति है, प्रदेश के 11 लाख बच्चों का भविष्य इस परीक्षा के साथ जुड़ा है। अभी तक स्थिति स्पष्ट न होने से बच्चे और उनके अभिभावक असमंजस की स्थिति में है, जबकि सरकार व शिक्षा विभाग स्थिति को स्पष्ट नहीं कर रहा है। बलराज कुंडू के इस सवाल पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने सदन में जवाब देते हुए कहा कि नैशनल टैस्टिंग एजैंसी को परीक्षा करवाने की जिम्मेदारी दे दी गई है और 5, 6 और 7 नवंबर को सीईटी परीक्षा होगी।

विधायक कुंडू ने सरकार की ओर से शुरू की गई चिराग योजना पर सवाल उठाते हुए कहा कि सरकार ने अपने जवाब में बताया है कि प्रदेश में 198 सरकारी स्कूल बंद किए गए हैं। सरकार ने जरूरतमंद बच्चों को 134ए के अंतर्गत एडमिशन देने की बजाय चिराग योजना शुरू कर दी है, क्या सरकार की मंशा इस योजना की आड़ में सरकारी स्कूलों की तालाबंदी करने की है। साथ ही बलराज कुंडू ने सरकार की ओर से सरकारी विद्यालयों में शिक्षकों के संदर्भ में दिए गए आंकड़ों पर भी प्रश्रचिह्न लगाते हुए कहा कि इसी साल फरवरी में उन्हें जो सूचना दी गई थी और अब दी गई सूचना में शिक्षकों के खाली पदों में करीब अढ़ाई हजार का अंतर है। महम के विधायक बलराज कुंडू ने सवाल उठाया कि क्या इस अवधि में अढ़ाई हजार शिक्षकों के पदों की भर्ती की गई है ? जाहिर है कि भर्ती नहीं की गई है। ऐसे में विभाग की ओर से गलत जानकारी सरकार को दी गई है। इसके साथ ही विधायक कुंडू ने काल अस सीएम मुहिम का मुद्दा सदन में उठाते हुए मुख्यमंत्री को कहा कि वे इन लोगों को मिलने के लिए बुलाएं। विधायक कुंडू ने प्रदेश में खाली पड़े शिक्षकों के 38 हजार से अधिक पदों को लेकर सदन में कहा कि अध्यापकों की कमी से पढ़ाई प्रभावित हो रही है, सरकार भर्ती की बजाय स्कूलों को बंद कर रही है।

सीईटी मामला और शिक्षा विभाग से जुड़े मुद्दों के अलावा कुंडू ने महम विधानसभा के तहत आने वाले गांव बहुअकबरपुर के सरकारी स्कूल का भवन न बनाए जाने का मुद्दा भी उन्होंने सदन में उठाते हुए कहा कि इस भवन के लिए पांच करोड़ रुपए मंजूर हो चुके हैं, लेकिन स्कूल का नया भवन बनाने की ओर सरकार का ध्यान नहीं है। उन्होंने जल्द नया भवन निर्माण करने की मांग की। इसके साथ ही बलराज कुंडू ने स्किल्ड युवाओं का जिक्र करते हुए कहा कि सरकार 2019 में निकाली गई आईटीआई इंस्ट्रक्टर भर्ती प्रक्रिया को जल्द पूरा करने समेत सभी पेंडिंग भर्तियों को जल्द पूरा करे ताकि युवाओं को रोजगार मिल सके। विधायक बलराज कुंडू ने महम हलके में बरसात से होने वाली जलभराव की समस्या को भी सदन में उठाया और कहा कि हर साल जलभराव होता है, पर सरकार इस समस्या का समाधान करने को लेकर कोई स्थायी योजना क्यों नहीं बनाती है ? महम विधायक कुंडू ने महम-बेरी मार्ग पर गांव बहलबा और महम लाखनमाजरा मार्ग पर गांव निंदाना में जर्जर हो चुकी सडक़ की हालात भी सुधारने की मांग सदन में उठाई।