ओमिक्रॉन से भी ज्यादा खतरनाक है नया सब-वैरिएंट Centaurus, वैक्सीन लगवाने वाले को भी कर रहा संक्रमित

Spread the News

नई दिल्लीः भारत में कोरोना वायरस के मामले एक बार फिर बढ़ने लगे हैं। वहीं, ओमिक्रॉन वैरिएंट ने भी स्वास्थ्य विभाग व सरकार की चिंता बढ़ा दी है। दरअसल, एक स्टडी में ओमिक्रॉन के नए सब-वैरिएंट BA 2.75 की पुष्टि हुई है। परेशान करने वाली बात है कि वैक्सीन लगवाने के बावजूद भी लोग इससे संक्रमित हो रहे हैं।

अध्ययन की रिपोर्ट में बताया गया कि 90 मरीजों के सैंपल्स जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए भेजे गए थे, जिसमें से आधे लोगों के सैंपल्स में ओमिक्रॉन का नया सब-वैरिएंट BA 2.75 मिला। वैज्ञानिकों का कहना है कि ओमिक्रॉन के मुकाबले यह नया सब वैरिएंट अधिक खतरनाक है क्योंकि इसका ट्रांसमिशन रेट बाकी वैरिएंट से ज्यादा है। हालांकि, नए वैरिएंट से संक्रमित मरीज जल्दी रिकवर भी हो रहे हैं। इससे मरीजों की स्थिति में सिर्फ 5 से 7 दिन में ही सुधार देखने को मिल रहा है।

BA 2.75 है ‘वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट’

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने ओमिक्रॉन के नए वैरिएंट BA 2.75 को ‘वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट’ की श्रेणी में रखा है क्योंकि यह तेजी से नहीं फैल रहा। वहीं, नए वैरिएंट का अनऑफिशियल नाम ‘Centaurus’ रख दिया गया है। हालांकि, आधिकारिक तौर पर इसका कोई नाम नहीं रखा गया है।