कौन सा आहार हमारे ग्रह को बचाने में करेगा मदद Climatarian, Flexitarian or Vegetarian?

Spread the News

हम जो भोजन करते हैं, उसका हमारे ग्रह पर व्यापक प्रभाव पड़ता है। पृथ्वी पर रहने योग्य भूमि का लगभग आधा हिस्सा कृषि से संबंधित है और दुनिया में ग्रीनहाऊस गैस उत्सर्जन का एक चौथाई उत्सर्जन होता है। मांस और डेयरी विशेष रूप से वैश्विक ग्रीनहाऊस गैस उत्सर्जन का लगभग 14.5 प्रतिशत हिस्सा है। इसलिए हम जो खाते हैं उसे बदलने से कार्बन उत्सर्जन कम करने और सतत खेती को बढ़ावा देने में मदद मिल सकती है, लेकिन ‘जलवायु के अनुकूल’ कई आहार हैं।

पूरी तरह से पौधे आधारित शाकाहारी आहार ज्यादा प्रचलित हैं और अंडे तथा डेयरी आहार को भी इसमें शामिल माना जाता है। ‘फ्लेक्सिटेरियन’ आहार भी हैं, जहां तीन चौथाई मांस और डेयरी आहार को पौधे-आधारित भोजन से बदल दिया जाता है। ‘फ्लेक्सिटेरियन’ आहार भोजन का एक रूप है, जिसमें ज्यादातर पौधे आधारित खाद्य पदार्थ पसंद किए जाते हैं, जबकि मांस और अन्य पशु उत्पादों को अनुमति दी जाती है। इसे एक अर्ध शाकाहारी आहार माना जा सकता है।

जलवायु संबंधी (क्लाइमेटेरियन) आहार। एक ऐसा स्वरूप जो गैर-लाभकारी संगठन ‘क्लाइमेट नैटवर्क’ द्वारा बनाया गया था और इसे स्वस्थ, जलवायु अनुकूल और प्रकृति के अनुकूल माना जाता है। आहार अभी भी आपको मांस और अन्य उच्च उत्सर्जन वाले खाद्य पदार्थ जैसे सूअर का मांस, मुर्गी पालन, मछली, डेयरी उत्पाद और अंडे खाने की अनुमति देता है। तो यह ‘जलवायु संबंधी मांसाहारी आहार’ का एक नया स्वरूप है। हालांकि, भोजन की बर्बादी से बचने और मौसमी, स्थानीय खाद्य पदार्थों का चयन करते हुए आहार आपको समग्र रूप से मांसाहारी भोजन में कमी करने के लिए प्रोत्साहित करता है।