चीन अर्थव्यवस्था के डिजिटल परिवर्तन को दे रहा बढ़ावा

Spread the News

हर वर्ष के 18 अगस्त को विश्व डिजिटल मैत्री दिवस मनाया जाता है। इस दिवस की स्थापना चीनी विश्व व्यापार संगठन अनुसंधान संघ की डिजिटल अर्थव्यवस्था और डिजिटल व्यापार व्यावसायिक समिति द्वारा की गई। यह दिवस डिजिटल सभ्यता के युग की सहमति के प्रति दुनिया भर के लोगों की समझ और रुख को दर्शाता है और डिजिटल दुनिया के सुन्दर, मुक्त और व्यापक विकास के लिए मानव समाज की इच्छा और खोज को व्यक्त करता है।

इस वर्ष के विश्व डिजिटल मैत्री दिवस के मौके पर दूसरे विश्व डिजिटल मैत्री सम्मेलन यानी दूसरे विश्व डिजिटल अर्थव्यवस्था और डिजिटल व्यापार सम्मेलन का आयोजन 18 अगस्त को पेइचिंग में किया जाएगा। गौरतलब है कि इस बार के सम्मेलन में डिजिटल मैत्री वैश्विक वार्ता की स्थापना भी की जाएगी। इस दौरान कई देशों के नेता, चीन में स्थित राजदूत, विभिन्न विभागों के मंत्री, प्रसिद्ध उद्यमी, यूनिकॉर्न एंटरप्राइज आदि डिजिटल मैत्री से जुड़े नए मौके व संभावना की चर्चा करेंगे।

सूचना प्रौद्योगिकी के तेजी से विकास ने न केवल लोगों के सामाजिक जीवन को महत्वपूर्ण रूप से बदल दिया है, बल्कि सामाजिक उत्पादन के तरीके को भी गहराई से बदला है। एक बड़े नवोदित विकासशील देश के रूप में चीन धीरे-धीरे दुनिया की सूचना प्रौद्योगिकी, विशेष रूप से इंटरनेट प्रौद्योगिकी नवाचार केंद्रों में से एक बन गया है और अंतर्राष्ट्रीय इंटरनेट के विकास में भी उत्कृष्ट योगदान दे रहा है।

सूचना व दूरसंचार की बुनियादी सुविधाओं का महत्व बहुत स्पष्ट है। यह डिजिटल अर्थव्यवस्था के विकास का समर्थन करने और अर्थव्यवस्था के डिजिटल परिवर्तन को बढ़ावा देने की आधारशिला माना जाता है। हाल के वर्षों में चीन ने नए नेटवर्क बुनियादी ढांचे के निर्माण में विशेष रूप से “दोहरे गीगाबिट” नेटवर्क के निर्माण में उत्कृष्ट उपलब्धियां हासिल की हैं। पूरे चीन में पेइचिंग और शांगहाई सहित 29 शहर देश के पहले गीगाबिट नेटवर्क वाले शहर बन गए हैं।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)