जम्मू-कश्मीर चुनाव आयोग का बड़ा फैसला, अब शहर में बसे बाहरी लोगों को भी मिलेगा वोटिंग का अधिकार

Spread the News

जम्मू-कश्मीर: मुख्य चुनाव अधिकारी (CEO) हिरदेश कुमार ने घाटी के लिए एक बड़े फैसले में घोषणा की है। दरअसल, अब स्थाई निवासी ना होने पर भी लोग चुनाव में हिस्सा ले सकेंगे। बता दें कि घाटी में संविधान के अनुच्छेद-370 हटाए जाने के बाद पहली बार मतदाता सूची का पुनरीक्षण किया जा रहा है। मीडिया से बात करते हुए हिरदेश कुमार ने बताया कि इस फैसले से यहां करीब 25 लाख नए मतदाताओं के नाम मतदाता सूची में दर्ज होने की उम्मीद है।

आयोग ने कश्मीर में रह रहे बाहरी लोगों को भी मतदान का अधिकार दे दिया है, जिनमें कर्मचारी, छात्र, मजदूर भी शामिल है। ये लोग मतदाता सूची में नाम दर्ज करवाकर जम्मू-कश्मीर में होने वाले चुनाव में वोट कर सकते हैं। इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए 1 अक्टूबर, 2022 से पहले 18 साल से ऊपर के लोगों का पंजीकरण करके उन्हें ‘त्रुटि-मुक्त’ अंतिम मतदाता सूची में शामिल किया जाएगा , ताकि वो आसानी से वोट डाल सकें।