रोहिंग्या मुसलमानों Myanmar वापसी अभी भी सुरक्षित नहीं: UNHC की प्रमुख Michelle Bachelet

Spread the News

ढाकाः संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त की प्रमुख मिशेल बाचेलेट ने कहा कि बांग्लादेश से लाखों रोहिंग्या मुसलमानों की म्यांमार वापसी अभी भी सुरक्षित नहीं है। एक समाचार एजेंसी ने बुधवार को बाचेलेट के हवाले से ढाका में कहा, कि ‘अब, म्यांमार की आंतरिक राजनीतिक स्थिति बहुत जटिल है, बहुत अस्थिरता है, बहुत सारे संघर्ष हैं .. और इसी तरह कई लोगों की आजीविका नष्ट हो गई, कई घर जला दिए गए।’’

म्यांमार में 1 फरवरी, 2021 को तख्तापलट के बाद से सेना फिर से सत्ता में है। म्यांमार में हिंसक उत्पीड़न के बाद 10 लाख से अधिक रोहिंग्या मुस्लिम शरणार्थी वहां से भागकर दक्षिण-पूर्वी बांग्लादेश के कॉक्स बाजार में शिविरों में रह रहे हैं। अगस्त 2017 में बौद्ध-बहुल पड़ोसी ने जातीय समूह पर कार्रवाई शुरू की थी। बाद में उनमें से लगभग 750,000 ने सीमा पार कर ली।

बाचेलेट ने बुधवार को बांग्लादेश की अपनी चार दिवसीय यात्रा समाप्त की है। इस दौरान उन्होंने शरणार्थी बस्तियों का दौरा किया और शिविरों में बिगड़ती सुरक्षा स्थिति पर चिंता व्यक्त की है। पिछले साल एक लोकप्रिय रोहिंग्या नेता की हत्या का हवाला देते हुए उन्होंने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि शरणार्थियों ने उन्हें बताया कि वे शिविर के अंदर अपहरण और हत्याओं की घटनाओं के कारण असुरक्षित महसूस करते हैं।

शिविरों में कई महिलाओं, धार्मिक नेताओं और युवा शरणार्थियों से बात करने वाले बैचेलेट ने कहा, ‘‘वे बुनियादी सक्षम शर्तो के साथ (म्यांमार) वापस जाना चाहते हैं .. यह स्वैच्छिक होना चाहिए, हम उन्हें वापस जाने के लिए मजबूर नहीं कर सकते।’’ बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने बाचेलेट के साथ एक बैठक के दौरान कहा था कि म्यांमार को नवंबर 2019 में हस्ताक्षरित एक समझौते के अनुसार अपने नागरिकों को वापस बुला लेना चाहिए। म्यांमार सरकार में शरणार्थी के भरोसे की कमी के बीच 2018 और 2019 में दो बार प्रत्यावर्तन के प्रयास किए गए, जो विफल रहे।