जेलों में कैदियों के लिए जल्द खोले जाएंगे Classroom, हर जेल में 50 छात्रों की क्षमता वाले कमरे बनाने की योजना

Spread the News

चंडीगढ़: जेलों में बंद कैदियों की जिंदगी सुधार कर उनको मुख्यधारा में लाने के मकसद से जेल विभाग की तरफ से हर जेल में 50 छात्रों की क्षमता वाले कमरे बनाने की योजना बनाई गई है। यह जानकारी जेल मंत्री हरजोत सिंह बैंस ने दी। बैंस ने बताया कि पहले 50 विद्यार्थियों की क्षमता वाले 2 से 3 कमरे बनाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि जेलों में बंद कैदियों के लिए पुस्तकालय की सुविधा में विस्तार किया गया है जिससे उनका मार्गदर्शन किया जा सके।

जेल मंत्री ने बताया कि मौजूदा समय पंजाब की जेलों में कैदियों की शैक्षिक योग्यता ‘क’, ‘ख’ और ‘ग’ के आधार पर की गई है। शैक्षिक योग्यता ‘क’ अधीन कुल 271 कैदी आते हैं जो बिल्कुल अनपढ़ हैं जिनको पंजाब सरकार के एस.सी.ई.आर.टी. प्रोग्राम द्वारा जेल में ही शिक्षा देकर पढ़ने-लिखने के समर्थ किया जाता है। इसी तरह कैटागरी ‘ख’ के अधीन उन कैदियों को रखा गया है जो कि 10वीं और 12वीं करने के इच्छुक हैं। इन कैदियों के नैशनल इंस्टीट्यूट आफ ओपन स्कूल के पास नाम दर्ज करवाए गए हैं, इन कैदियों की संख्या 75 है। इसी तरह कैटागरी ‘ग’ के अधीन कुल 49 कैदी हैं, यह वह कैदी हैं जो 12वीं पास हैं और ग्रेजुएशन और उच्च विद्या हासिल करने के इच्छुक हैं।