लंपी रोग से सेहत विभाग सतर्क: मिलावट के अंदेशे में पंजाब में दूध की स्पैशल चैकिंग शुरू

Spread the News

लुधियाना: पंजाब में लंपी स्किन रोग से दूध के उत्पादन में आई कमी को लेकर सेहत विभाग का फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (एफडीए) भी सतर्क हो गया है। विभाग को अंदेशा है कि कहीं दूध की कमी को पूरा करने के लिए मिलावट का दौर न शुरू हो जाए। इसके मद्देनजर एफ.डी.ए. ने दूध की क्वालिटी की निगरानी बढ़ा दी है। पूरे पंजाब में अगले सात दिन दूध की विशेष चैकिंग का फैसला लिया गया है, जिसकी रोजाना रिपोर्ट स्टेट हैडक्वार्टर को भेजनी होगी।

शनिवार से पंजाब में यह विशेष चैकिंग शुरू हो गई। एफ.डी.ए. ने हर जिले के डैजिग्नेटेड अफसर (फूड सेफ्टी) को निर्देश जारी किए हैं कि 26 अगस्त तक रोज दूध के कम से कम पांच सैंपल लेकर जांच के लिए लैब भेजे जाएं। उन्हें यह भी कहा गया है कि सैंपलिंग के दौरान एक ही फूड बिजनैस ऑप्रेटर से बार-बार सैंपल नहीं भरे जाएं, बल्कि अलग-अलग वैंडर से सैंपल लिए जाएं ताकि मार्कीट में सप्लाई किए जा रहे दूध के क्वालिटी की असल तस्वीर सामने आ सके। ज्वाइंट कमिश्नर फूड सेμटी मनोज खोसला ने बताया कि दूध की क्वालिटी को यकीनी बनाने के लिए कमिश्नर फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन डा. अभिनव त्रिखा के निर्देश पर यह मुहिम चलाई जा रही है, जिसके तहत शनिवार से सैंपलिंग शुरू भी हो गई है। लंपी स्किन वायरस से डेयरी कारोबार बुरी तरह से प्रभावित हुआ है। दुधारू पशुओं की मौत हो जाने के अलावा इस बीमारी से प्रभावित पशुओं की दूध उत्पादन क्षमता भी घटी है।