शिमला की सड़कों पर जरा संभल कर चलाएं वाहन, अब ऑटोमैटिक कटेगा चलान

Spread the News

शिमला: रफ्तार के शौकिन वाहन चालक शिमला की सड़को पर वाहन जरा संभल कर चलाए । अब यातायात नियमों की अवहेलना की तो खैर नहीं क्योंकि अब हर जगह पुलिस नहीं दिखेगी पर आप ने कब और कहा यातायात नियमों की अवहेलना की इसका मैसेज आपके मोबाइल पर जरूर दिखेगा। चूंकि पूलिस अब बिगड़ैल चालकों पर शिकंजा कसने के लिए शिमला शहर के 5 स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे और इंफ्रारेड डिवाइस लगाने जा रही है। इन कैमरों की मदद से ओवर स्पीड, बिना सीट बैल्ट गाड़ी चलाना, बाइक पर बिना हैलमेट के चलना, दो की जगह तीन लोगों को बिठाना तो ऑटोमैटिक तरीके से चालान कटेंगे।

चालान कटने का मैसेज मालिक के मोबाइल पर आएगा। एएनपीआर ऑटोमैटिक नंबर प्लेट रिकॉनाइजेशन सीसीटीवी कैमरे से होंगे। कैमरे वाहन की नंबर प्लेट को स्कैन कर चालक की ओर से किए गए यातायात उल्लंघन को रिकॉर्ड कर उसकी फोटो उस दिन की तारीख व समय के साथ सीधे कंट्रोल रूम को भेज देंगे। शिमला में बढ़ते ट्रैफिक को रेगुलेट करने के लिए पुलिस यह व्यवस्था करने जा रही है। इसमें ऑटोमैटिक चालान सिस्टम इंस्टॉल करने के साथ ही शिमला शहर के ट्रैफिक को रैगुलेट करने का भी खाका भी तैयार किया गया है। इस व्यवस्था के तहत शिमला में ट्रैफिक नियमों को तोड़ने पर चालान करने के लिए पुलिस की मौजूदगी की जरूरत नहीं होगी।

बता दें कि हिमाचल पुलिस ई-चालान सिस्टम लागू कर चुकी है। इसके तहत अभी तक पुलिस के जवान गाडियों का नंबर मशीन में फीड करते हैं। इसे उस गाड़ी की पूरी डिटेल पुलिस को मिलती है। इस तरह जिस नियम का उल्लंघन किया है उसके तहत गाड़ी का चालान कर दिया जाता है। इस तरह ऑटोमैटिक चालान के लिए ई.चालान जरूरी है जो कि शिमला में शुरू किया जा चुका है। खासकर इस पर रहेगी पैनी नजर : बिगड़ैल चालकों की ओवरस्पीड ड्राइविंग, स्पीड बाइकिंग, बाइक स्टंट, हिट एंड रन, चेन स्नैचिंग जैसी घटनाओं पर 24 घंटे नजर रहेगी। शहर की सड़कों पर रात के समय कई वाहन चालक वाहनों को तेज गति से दौड़ाते हैं। इसमें यातायात उल्लंघन जैसे ओवरस्पीड, बिना हेलमेट, ट्रिपल राइिडंग, बिना सीट बेल्ट आदि पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा। पुलिस ने शहर में स्पीडो मीटर भी लगाए हैं।

ऐसे होगा ऑटोमैटिक चालान, सिस्टम इस तरह करेगा काम

ऑटोमैटिक चालान सिस्टम के तहत सीसीटीवी कैमरे जहां गाडियों की पूरी पिक्चर लेंगे वहीं इंफ्रारेड डिवाइस या सैंसर यह चेक करेंगे कि कोई गाड़ी ओवर स्पीड तो नहीं है। अगर कोई ओवर स्पीड है तो उस गाड़ी के नंबर प्लेट को रीड कर कंप्यूटराइज्ड तरीके से चालान तैयार होगा जो कि वाहन मालिक के मोबाइल नंबर पर चला जाएगा। इसी तरह बिना हेलमेट के दोपिहया वाहन को भी यह डिटेक्ट करेगा और चालान काटेगा। अगर कहीं ट्रैफिक लाइटें लगी हैं और कोई चालक ट्रैफिक लाइट को जंप करता है तो उसका चालान भी ऑटोमैटिक तरीके से होगा। ई.चालान सिस्टम चल रहा।