Pushpa Gujral Science City और न्यूक्लियर पावर कॉर्पोरेशन ने संयुक्त रूप से मनाया ‘आजादी का अमृत महोत्सव’

Spread the News

कपूरथला : पुष्पा गुजराल साइंस सिटी और न्यूक्लियर पावर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ने संयुक्त रूप से आजादी का अमृत महोत्सव मनाया। इस अवसर पर न्यूक्लियर पावर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के सहयोग से “परमाणु ऊर्जा, सुरक्षित ऊर्जा” पर व्याख्यान, ड्राइंग और पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम प्रगतिशील भारत के विकास के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में मनाया गया और विभिन्न शिक्षण-संस्थानों के 75 छात्रों और शिक्षकों ने इस कार्यक्रम में भाग लिया। इस अवसर पर दर्शकों को संबोधित करते हुए साइंस सिटी के महानिदेशक डॉ. नीलिमा जैरथ ने कहा कि परमाणु ऊर्जा ऊर्जा के किफायती स्रोतों में से एक है और इसका उपयोग जलवायु परिवर्तन और ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।

उन्होंने कहा कि परमाणु ऊर्जा एक कुशल ऊर्जा स्रोत है। यह कोयले और गैस जैसे जीवाश्म ईंधन की तुलना में ऊर्जा का अधिक लागत प्रभावी स्रोत है और सभी आवश्यक सावधानियों के तहत सुरक्षित है। इस कारण से सभी विकसित देशों में इसका व्यापक रूप से उपयोग किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि परमाणु ऊर्जा का पहली बार व्यावसायिक उपयोग 1950 में किया गया था, तब से इसका उपयोग लगातार बढ़ता ही जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज पूरी दुनिया में 400 परमाणु ऊर्जा संयंत्र काम कर रहे हैं और ये परमाणु ऊर्जा संयंत्र पृथ्वी पर इस्तेमाल होने वाली कुल बिजली का 10% उत्पादन करते हैं।

इस अवसर पर भारतीय परमाणु ऊर्जा निगम के वैज्ञानिक अधिकारी – गौरव कालोनियां ने बच्चों को “परमाणु ऊर्जा, सुरक्षित ऊर्जा” के बारे में जानकारी दी। उन्होंने कहा कि परमाणु ऊर्जा सुरक्षित, स्वच्छ और पर्यावरण के अनुकूल है, इस प्रक्रिया में ग्रीन हाउस गैसों का उत्सर्जन अन्य नवीकरणीय स्रोतों के लिए अतुलनीय है। उन्होंने कहा कि भारतीय परमाणु ऊर्जा संयंत्रों के डिजाइन, निर्माण और संचालन में सुरक्षा के सभी उच्चतम मानकों को अपनाया जा रहा है।

इस अवसर पर हुई प्रतियोगिताओं का परिणाम : डिप्स स्कूल सुरानुसी जालंधर के सुखमन प्रीत ने ड्रॉइंग प्रतियोगिता में प्रथम, कमला नेहरू पब्लिक स्कूल फगवाड़ा की नमनप्रीत ने दूसरा और डिप्स सुरानुसी के जय राज सिंह ने तीसरा स्थान हासिल किया। पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में सीटी पब्लिक स्कूल जालंधर की शरिया ने प्रथम, डिप्स स्कूल सुरानुसी जालंधर की कनिका ने द्वितीय और पायनियर इंटरनेशनल स्कूल रुड़का की मन्नत चुंबर ने तृतीय पुरस्कार प्राप्त किया।

Exit mobile version