Punjab Vigilance ने सहकारी समिति में 4 करोड़ से अधिक के घोटाले का किया पर्दाफाश, 3 गिरफ्तार

Spread the News

चंडीगढ़: मुख्यमंत्री भगवंत मान के नेतृत्व वाली पंजाब सरकार द्वारा भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति के मद्देनज़र पंजाब विजिलेंस ब्यूरो ने काजला बहुउद्देश्यीय सहकारी समिति लि. काजला, शहीद भगत सिंह नगर में करोड़ों रुपये के घोटाले का पर्दाफाश किया है। उक्त सोसायटी ने सात आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है, जिनमें से तीन को गिरफ्तार कर लिया गया है।

विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि जांच दौरान गबन का खुलासा हुआ है। इस संबंध में पूर्व सचिव प्रेम सिंह, निलम्बित सचिव भूपिंदर सिंह, पूर्व अध्यक्ष जसविंदर सिंह, उपाध्यक्ष हरवेल सिंह, पूर्व सदस्य हरजीत सिंह व बलकार सिंह (सभी ग्राम काजला निवासी) और एक अन्य पूर्व सदस्य राम पाल निवासी पद्दी मटवाली के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इनमें से तीन आरोपी प्रेम सिंह, भूपिंदर सिंह और हरजीत सिंह को आज गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि काजला बहुउद्देश्यीय सहकारी समिति ग्राम काजला में लगभग 1220 खाताधारक हैं। उक्त समिति के पास बड़ी मात्रा में कृषि योग्य भूमि से संबंधित 02 ट्रैक्टर और कृषि उपकरण हैं। इसके अलावा उक्त सोसायटी किसानों को भोजन और कीटनाशक भी बेचती है। सोसायटी में विभिन्न स्थानों पर कुल 02 कर्मचारी कार्यरत हैं और इन कर्मचारियों को सोसायटी द्वारा भुगतान किया जाता है। उक्त विधानसभा में गांव के लोगों द्वारा करोड़ों रुपये की एफडीआर कराई गई है।

प्रवक्ता ने बताया कि विजिलेंस की तकनीकी टीम ने उक्त सोसायटी की अघोषित जांच की और टीम द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2012-13 से सोसायटी के सदस्यों द्वारा लिए गए ऋण व सदस्यों की जमा राशि का भी जायजा लिया। सोसायटी में वर्ष 2017-18 में 4,24,02,561 का गबन पाया गया। इस घोटाले में शामिल अन्य अधिकारियों एवं कर्मचारियों की भूमिका पर भी विचार किया जाएगा और इस मामले की आगे की जांच जारी है।