Anant Chaturdashi: इस दिन रखा जा रहा है अनंत चतुर्दशी व्रत, इस शुभ मुहूर्त में करें भगवान विष्णु के अनंत स्वरुप की पूजा

Spread the News

हर साल शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि में चतुर्दशी का व्रत रखा जाता है। इस दिन भगवान विष्णु जी के अनंत स्वरूप की पूजा की जाती है। इस व्रत को करने से भगवान विष्णु की कृपा प्राप्त होती है। मान्यता यह भी है की इस व्रत को रखने से पाप नष्ट होते हैं। आइए जानते है अनंत चतुर्दशी पूजा का शुभ मुहूर्त और तिथि के बारे में:

अनंत चतुर्दशी तिथि 2022
हिंदू कैलेंडर के अनुसार, 08 सितंबर दिन गुरुवार को रात 09 बजकर 02 मिनट पर भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि शुरु होगी और यह तिथि 09 सितंबर दिन शुक्रवार को शाम 06 बजकर 07 मिनट पर खत्म हो जाएगी. सूर्योदय की तिथि के आधार पर देखें तो अनंत चतुर्दशी का व्रत 09 सितंबर शुक्रवार को रखा जाएगा.

अनंत चतुर्दशी पूजा मुहूर्त 2022
अनंत चतुर्दशी के दिन यानि 09 सितंबर को भगवान विष्णु के अनंत स्वरूप की पूजा करने का शुभ समय प्रातःकाल में 06 बजकर 03 मिनट से शाम 06 बजकर 07 मिनट तक है. इस दिन पूजा का शुभ समय 12 घंटे से अधिक का है.

सुकर्मा और रवि योग में अनंत चतुर्दशी
इस वर्ष अनंत चतुर्दशी के दिन दो शुभ योग सुकर्मा और रवि बने रहे हैं. ये दोनों ही योग मांगलिक कार्यो की दृष्टि से अच्छे माने जाते हैं. इस दिन रवि योग सुबह 06 बजकर 03 मिनट से 11 बजकर 35 मिनट तक है, वहीं सुकर्मा योग सुबह से लेकर शाम को 06 बजकर 12 मिनट तक है. अनंत चतुर्दशी का अभिजित मुहूर्त 11 बजकर 53 मिनट से दोपहर 12 बजकर 43 मिनट तक है.

अनंत चतुर्दशी के दिन पंचक और भद्रा भी
09 सितंबर को अनंत चतुर्दशी के दिन पंचक पूरे दिन है और भद्रा का भी साया है. हालांकि भद्रा शाम 06 बजकर 07 मिनट से अगले दिन 10 सितंबर को सुबह 04 बजकर 45 मिनट तक है.

अनंत चतुर्दशी को गणेश विसर्जन
अनंत चतुर्दशी के दिन भगवान विष्णु के अलावा गणेश जी की भी पूजा करते हैं. गणपति बप्पा को इस दिन पूजा के बाद खुशी खुशी विदा किया जाता है. गणेश चतुर्थी के दिन स्थापित गणेश जी की मूर्तियों का विसर्जन होता है.