शी चिनफिंग और उन के अध्यापकों की कहानी

Spread the News

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग हमेशा शिक्षा के विकास को प्राथमिकता देते हैं ।उन के दिल में अध्यापकों के लिए बड़ा सम्मान है ।चीन के सर्वोच्च नेता बनने के बाद उन्होंने कई बार स्कूल जाकर अध्यापकों और छात्रों के साथ विचारों का आदान-प्रदान किया ।अपने अध्यापकों की चर्चा में उन्होंने एक बार कहा कि अध्यापकों ने मुझे न सिर्फ ज्ञान दिया ,बल्कि नैतिकता और सुव्यवहार भी सिखाया ।

सितंबर 1965 में 12 वर्षीय शी चिनफिंग पेइचिंग पायी मिडिल स्कूल में दाखिल हुए ।छन इंगछ्यू उन के चीनी भाषा अध्यापक थीं ।अध्यापक छन के नजर में शी एक शांत ,स्थिर और दयालु स्वभाव के बालक थे  ।वे बहुत मेहनत से पढ़ाई करते थे ।इस के अलावा वे पुरानी कविता के शौकीन थे ।

9 सितंबर 2016 को चीनी अध्यापक दिवस के पूर्वबेले में शी चिनफिंग ने पेइचिंग पायी मिडिल स्कूल आकर कर अध्यापकों और छात्रों का अभिवादन किया ।शी चिनफिंग छन इंगछ्यु समेत अपने अध्यापकों से मिले ।उन्होंने बताया कि यहां मेरी जड़ है और मेरी स्मृति है ।यहां नेता नहीं हूं ,मैं हमेशा आप लोगों का छात्र हूं । एक पुराने अध्यापक ने बताया कि आप ने जनता को सुख दिया ।तो शी चिनफिगं ने उत्तर दिया कि आप लोगों ने हमें तैयार किया ।जाहिर है कि कई दशकों के बाद अध्यापकों और छात्रों की गहरी भावना जस का तस रहती है ।

छन चोंगहान शी चिनफिंग के मिडिल स्कूल के अध्यापक भी हैं ।उस दिन उन्होंने शी चिनफिंग से आशा व्यक्त की कि आप राष्ट्र का बेहतर प्रबंधन करें और विभिन्न पहलुओं में अधिक बड़ी प्रगति प्राप्त करें ।तो शी ने जवाब दिया कि आप की बात को मैं अपने दिल में याद रखूंगा ।छन चोंग हान की नजर में शी एक कृतज्ञ और भावुक व्यक्ति हैं ।

पायी मिडिल स्कूल में पढ़ाई पूरी करने के बाद शी चिनफिंग पश्चिमी चीन के ल्यांग च्या ह नामक छोटे गांव जाकर काम करने लगे ।इस के बाद कई दशकों तक शी और अपने अध्यापकों के बीच संपर्क कभी नहीं टूटा ।चीन के सर्वोच्च नेता बनने के बाद शी ने कई मौकों पर जोर दिया कि अध्यापक का काम समाज में सब से सम्मानजनक और आकर्षक पेशा बनाना चाहिए और पूरे समाज में अध्यापक और शिक्षा को महत्व देने वाला माहौल तैयार करना चाहिए ।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप  ,पेइचिंग)