Queen Elizabeth II के अंतिम संस्कार में शामिल होने लंदन जाएंगी राष्ट्रपति मैडम Droupadi Murmu

Spread the News

नई दिल्ली: ब्रिटेन की महारानी एलिजाबेथ-II के राजकीय अंतिम संस्कार में राष्ट्रपति द्रौपदी मुमरू सहित विश्वभर के लगभग 500 नेता और विदेशी गणमान्य लोग शामिल होंगे। महारानी का अंतिम संस्कार 19 सितंबर सोमवार को वेस्टमिंस्टर एबे में राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। विदेश मंत्रालय ने बुधवार को राष्ट्रपति मुमरू की तीन दिवसीय ब्रिटेन यात्रा की पुष्टि की हैं। लंदन में होने वाले राजकीय अंतिम संस्कार के लिए उन्हें भारत के राष्ट्राध्यक्ष के रूप में आमंत्रित किया गया था। ब्रिटेन में पिछले 57 वर्षों में यह पहला राजकीय अंतिम संस्कार है। इससे पहले 1965 में ब्रिटेन के पूर्व प्रधानमंत्री विंस्टन र्चिचल का राजकीय अंतिम संस्कार किया गया था।

आधिकारिक खबरों के अनुसार महाराज चाल्र्स तृतीय रविवार शाम को लंदन के बकिंघम पैलेस में विदेशी नेताओं के सम्मान में एक समारोह की मेजबानी करेंगे। सोमवार को पूर्वाह्न् 11 बजे अंतिम संस्कार कार्यक्रम की शुरुआत होगी। इससे पहले रविवार को राष्ट्रपति मुमरू शोक पुस्तक पर हस्ताक्षर करेंगी और बकिंघम पैलेस के पास लैंकस्टर हाउस में भारत सरकार की ओर से शोक संदेश देने की भी उम्मीद है।

इस बीच रूस-यूक्रेन युद्ध का भी ब्रिटेन की इस महत्वपूर्ण राजनयिक घटना पर प्रभाव पड़ा है। ब्रिटिश मीडिया की खबरों के अनुसार रूस, बेलारूस और म्यांमा को राजकीय अंतिम संस्कार के लिए निमंत्रण नहीं दिया गया है। बेल्जियम, स्वीडन, नीदरलैंड और स्पेन के नरेशों और उनकी रानियों के भी इस राजकीय अंतिम संस्कार कार्यक्रम में शामिल होने की संभावना है।

ब्रिटेन में इस दिन सार्वजनिक अवकाश घोषित किया गया है। जुलूस सेंट्रल लंदन से गुजरेगा। इस दौरान ये क्वीन्स गार्डन्स, द मॉल, हॉर्स गार्डस आर्च, व्हाइटहॉल, पार्लियामेंट स्ट्रीट, पार्लियामेंट स्क्वायर और न्यू पैलेस यार्ड से होकर आगे जाएगा। इस यात्रा के दौरान हाइड पार्क में बंदूक दागी जाएगी और बिग बेन की घंटी बजाई जाएगी।