Bio-decomposer का पायलट प्रोजेक्ट पंजाब में होगा शुरू, दिल्ली एवं पंजाब के मंत्रीयों ने की अधिकारियों से चर्चा

Spread the News

चंडीगढ़/नई दिल्ली: पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण की समस्या के निदान को लेकर दिल्ली के विकास मंत्री गोपाल राय ने पंजाब के कृषि मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल और भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (पूसा) के अधिकारियों के साथ संयुक्त बैठक की। बैठक के बाद दिल्ली में पराली गलाने को लेकर बायो डी-कंपोजर के सफल प्रयोग को देखते हुए यह निर्णय लिया गया कि पंजाब में भी पायलट प्रोजेक्ट के रूप में निःशुल्क बायो डी-कंपोजर का छिड़काव कुछ क्षेत्रों में किया जाएगा, उसके आंकलन के बाद खेतों में बायो डी-कंपोजर के छिड़काव को लेकर आगे निर्णय लिया जाएगा।

पंजाब के कृषि मंत्री कुलदीप सिंह धालीवाल ने बताया कि पंजाब में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में निःशुल्क बायो डी-कंपोजर का छिड़काव करने के लिए भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (पूसा) के अधिकारी को सभी जरूरी कदम उठाने का निर्देश दे दिया गया है, ताकि समय पर वो तैयारी कर लें। भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान (पूसा) के निगरानी में पंजाब में पायलट प्रोजेक्ट के रूप में निःशुल्क बायो डी-कंपोजर का छिड़काव कुछ क्षेत्रों में किया जाएगा। पंजाब में पहली बार सरकार द्वारा यह अभियान चलाया जाएगा इसीलिए इसको पायलट परियोजना तौर पर कुछ क्षेत्रों में किया जाएगा और उसके आंकलन के बाद आगे का निर्णय लिया जाएगा । उन्होंने बताया कि किसानों के बीच बायो डी-कंपोजर के छिड़काव को लेकर जागरूकता अभियान भी चलाया जाएगा।

विकास मंत्री गोपाल राय ने बताया कि दिल्ली के अंदर कुछ हिस्सों में ही धान की खेती की जाती है। दिल्ली में पराली से प्रदूषण न हो, इसीलिए पिछले साल बायो डी-कंपोजर का निःशुल्क छिड़काव किया गया था, जिसका बहुत ही सकारात्मक परिणाम रहा, पराली गल गई और खेत की उपजाऊ क्षमता में भी बढ़ोतरी देखी गई | इस वर्ष भी दिल्ली के अंदर बासमती या गैर बासमती दोनों ही तरह की धान के खेत पर सरकार द्वारा छिड़काव किया जाएगा | गोपाल राय ने कहा कि बायो डी-कंपोजर के छिड़काव से मृदा की उर्वरता और उत्पादकता में वृद्धि होती है, क्योंकि पराली गल कर जैविक खाद के रूप में बदल जाती है। साथ ही, इससे उर्वरक की खपत भी कम हो जाती है।