शीघ्र ही प्रदेश में गन्ने के भाव तय किए जाएंगे : जेपी दलाल

Spread the News

चंडीगढ़: कृषि मंत्री जयप्रकाश दलाल ने कहा कि देश में किसानों को सबसे ज्यादा गन्ने का भाव देने वाला हरियाणा प्रदेश है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल किसान हितैषी हैं और सदैव किसानों की भलाई के लिए कार्य कर रहे हैं। किसानों की भलाई को ध्यान में रखते हुए शीघ्र ही गन्ने के भाव तय किए जाएंगे। किसानों के गन्ने की बकाया राशि का शत-प्रतिशत भुगतान कर दिया गया है। केवल एक शुगर मिल का शेष है, उस शुगर मिल के किसानों की बकाया राशि का भुगतान भी जल्द ही करने के निर्देश दिए गए हैं। किसानों के लिए गन्ने की नई किस्म 15023 तैयार की गई है। इस किस्म को केंद्र ने स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। हिसार स्थित हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय को भी जल्द ही इस किस्म के सत्यापन करने के निर्देश दिए गए है।

इस किस्म का ज्यादा से ज्यादा बीज तैयार किया जाए ताकि किसान इसका अधिक उत्पादन कर ज्यादा लाभ उठा सकें। इस किस्म को बढ़ावा देने के लिए सरकार किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। गत वर्ष इस नई किस्म की बिजाई करने वाले किसानों को भी सत्यापन करके वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। उन्होंने बताया कि शुगर मिलों में लगाए जाने वाले एथनोल प्लांट के निर्माण कार्यों में तेजी लाई जाए ताकि इनके चलने से किसानों को ज्यादा लाभ मिल सके। इसके अलावा किसान गन्ने की नई किस्म 15023 की अधिक पैदावार करें। इस किस्म पर किसानों को सबिसडी प्रदान की जाएगी। बुधवार को दलाल गन्ना नियंत्रण बोर्ड की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। बैठक में सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल, कृषि वि•ााग की अतिरिक्त मुख्य सचिव सुमिता मिश्रा भी मौजूद रहे।

कृषि मंत्री ने कहा कि शाहाबाद शुगर मिल में 60 केएलपीडी क्षमता का एथनोल प्लांट स्थापित किया जा चुका है और पानीपत शुगर मिल में 90 केएलपीडी क्षमता का एथनोल प्लांट शीघ्र ही लगाया जाएगा। इसके अतिरिक्त रोहतक, करनाल, सोनीपत, जींद, कैथल, महम, गोहाना व पलवल शुगर मिलों में एथनोल प्लांट लगाने के प्रस्ताव तैयार कर लिए गए हैं । सहकारी और प्राइवेट मिलों में अंतर को खत्म करेगी कमेटी : कृषि मंत्री ने कहा कि सहकारी शुगर मिलों एवं प्राईवेट शुगर मिलों के उत्पादन में जो अंतर है, इसे दूर करने के लिए कमेटी का गठन किया गया है। यह कमेटी जल्द ही रिपोर्ट तैयार करके प्रस्तुत करेगी। इसके लिए व्यक्तिगत स्तर पर शुगल मिलों की जवाबदेही तय की जाएगी। इस वर्ष शुगर मिलों का पिराई सत्र पिछले सत्र से पहले शुरू किया जाएगा ताकि किसान आगामी फसल की बिजाई आसानी से कर सकें।

बैठक में गन्ने की नई किस्मों को तैयार करने के लिए गन्ना प्रजनन संस्थान करनाल को 50 एकड़ भूमि देने के लिए भूमि का चयन करने के भी निर्देश दिए ताकि प्रदेश के किसानों को नई-नई किस्मों के बीज उपलब्ध करवाए जा सकें। इसके अलावा पुरानी गुड- खांडसारी इकाइयों के लाईसेंस नवीनीकरण करने और नई इकाइयों को लाईसेंस जारी करने का निर्णय लिया गया। गत वर्ष 168 गुड़ और 02 खांडसारी इकाइयों को लाईसेंस जारी किए गए थे। बैठक में कृषि वि•ााग के महानिदेशक हरदीप सिंह, रजिस्ट्रार सहकारी समितियां डॉ. शालीन सहित सभी शुगर मिलों के प्रबंधक एवं बोर्ड के सदस्य मौजूद रहे।