African Swin Fever: बरनाला के धनौला में सुअरों में हुई वायरस की पुष्टी, जिला प्रशासन अलर्ट

Spread the News

बरनाला: देश में अफ्रीकन स्वाइन फीवर का कहर बढ़ता जा रहा है। वहीं अब बरनाला के धनौला में घरेलू सुअरों में यह वायरस पाया गया है। वायरस की पुष्टि होने के बाद हरकत में आए जिला प्रशासन व पशुपालन विभाग ने प्रभावित एरिया के 1 किलोमीटर एरिए को कंटेनमेंट जोन एलान दिया है। इस संबंधी जानकारी देते हुए पशुपालन विभाग के डिप्टी डायरेक्टर लखबीर सिंह ने बताया कि इस एरिया में अलग-अलग टीमें बनाकर सूअरों का सर्वे किया गया है। जिसमें 86 सूअरों की लिस्ट बनाकर उनकी कीलिंग की जा रही है और जिन लोगों के सुअरों की कलिंग की जा रही है, उन्हें पंजाब सरकार मुआवजा देगी।

इस मौके बातचीत करते हुए पशुपालन विभाग के डिप्टी डायरेक्टर लखबीर सिंह ने बताया कि बरनाला जिले के कस्बा धनौला में सुअरों की सैंपलिंग की गई थी। जिनकी जांच रिपोर्ट भारतीय कृषि खोज कौशल भोपाल से आई है और इस इस रिपोर्ट में इन सूअरों में अफ्रीकन स्वाइन फीवर वायरस पाया गया है। जिसके बाद जिला प्रशासन के साथ मिलकर पशुपालन विभाग ने अपनी कार्यवाही शुरू कर दी है। नियमों अनुसार जिस जगह से सुअरों में यह वायरस पाया गया है, उसके 1 किलोमीटर के दायरे को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है। अलग-अलग टीमें बनाकर सुअरों की सूची बनाई गई है। इस जोन में 86 सुअर पाये गये हैं, जिनको नियमों अनुसार कलिंग (खत्म) किया जा रहा है। अभी तक 45 सुअर कलिंग किये जा चुके हैं। इस एरिए से सुअरों के मीट वगैरा बेचने पर पाबंदी है ताकि यह वायरस आगे न फैल सके। उन्होंने कहा कि बरनाला जिले कुल 1477 सुअर हैं, जिनकी इस वायरस संबंधित सैंपलिंग की जा रही है। उन्होंने कहा कि जिन लोगों के सूअर इस वायरस के कारण कलिंग किए जा रहे हैं, उनको पंजाब सरकार द्वारा मुआवजा भी दिया जाएगा।