ज्यादा घनिष्ठ चीन-आसियान साझा भाग्य वाले समुदाय के निर्माण के लिए चीन और आसियान ने ऐसा किया

Spread the News

19वां चीन-आसियान मेला 16 सितंबर को क्वांगशी च्वांग जातीय स्वायत्त प्रदेश की राजधानी नाननिंग में उद्घाटित होगा। मेले का प्रदर्शनी क्षेत्रफल 1 लाख वर्ग मीटर से अधिक है, जिसमें विदेशी प्रदर्शनी हॉल का क्षेत्रफल 30 प्रतिशत है, जो महामारी होने से पहले की स्थिति तक बहाल हो गया है। यह मेला चीन-आसियान सहयोग के साथ-साथ शुरू हुआ, जो चीन-आसियान साझा भाग्य वाले समुदाय के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। तो ज्यादा घनिष्ठ चीन-आसियान साझा भाग्य वाले समुदाय के निर्माण के लिए चीन और आसियान ने क्या किया?   

2013 में चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने प्रस्ताव पेश किया कि चीन आसियान देशों के साथ 21वीं सदी समुद्री रेशम मार्ग का सह-निर्माण करना चाहता है, ताकि ज्यादा घनिष्ठ चीन-आसियान साझा भाग्य वाले समुदाय का संयुक्त रूप से निर्माण किया जा सके। 2021 में दोनों पक्षों के नेताओं ने चीन-आसियान व्यापक रणनीतिक साझेदारी की स्थापना की घोषणा की।  अब चीन-आसियान संबंध एशिया-प्रशांत क्षेत्र के सहयोग में सबसे सफल और सबसे जीवन शक्ति से ओतप्रोत आदर्श, और मानव जाति के साझा भाग्य वाले समुदाय के निर्माण को बढ़ावा देने में ज्वलंत उदाहरण बन चुके हैं।

पहला, महामारी की स्थिति में चीन और आसियान ने एक-दूसरे की मदद की। महामारी-रोधी अनुभव साझा किया, संबंधित सामग्री की आपूर्ति को बढ़ावा दिया, टीके के अनुसंधान और विकास में सहयोग किया। दोनों पक्षों के बीच लोगों और सामग्रियों की आवाजाही के लिए त्वरित रास्ता और हरित रास्ता खुला।

दूसरा, चीन और आसियान के बीच मानविकी आदान-प्रदान बहुत घनिष्ठ है। दोनों पक्षों ने एक दूसरे के यहां अध्ययन करने के लिए 2 लाख से अधिक छात्रों को भेजा। आने-जाने वाले लोगों की संख्या 2018 में 5 करोड़ से अधिक हो गयी थी। कोरोना महामारी के प्रकोप से पहले, दोनों पक्षों के बीच हर सप्ताह 3800 से अधिक उड़ानें संचालित होती थीं।  

तीसरा, चीन और आसियान के बीच बुनियादी ढांचा निरंतर उन्नत हो रहा है। दोनों पक्षों ने रेलवे, राजमार्ग, बंदरगाह, हवाई अड्डे, बिजली, संचार आदि बुनियादी ढांचा संबंधी सहयोग मजबूत किया। जुलाई 2022 के अंत तक, चीनी उद्यमों ने 3.8 खरब अमेरिकी डॉलर से अधिक के संचयी कारोबार के साथ आसियान देशों में लगातार अनुबंधित परियोजनाओं को अंजाम दिया है। 

चौथा, चीन और आसियान के बीच व्यापार का लगातार तेज़ विकास हो रहा है। इस वर्ष जनवरी से जुलाई तक, द्विपक्षीय व्यापार की रकम 5.449 खरब अमेरिकी डॉलर तक पहुंच गयी, जिसमें गत वर्ष के समान समय की तुलना में 13.1 प्रतिशत का इजाफा हुआ। यह मात्रा चीनी विदेशी व्यापार के आयात-निर्यात का 15 प्रतिशत है। चीन लगातार 13 सालों में आसियान का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार रहा, जबकि चीन के सबसे बड़े व्यापारिक भागीदार के रूप में आसियान की स्थिति और मजबूत हुई है।    

पांचवां, चीन और आसियान के बीच निवेश सहयोग में उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल हुईं। इस वर्ष जुलाई के अंत तक, चीन और आसियान के बीच संचित दोतरफा निवेश 3.4 खरब अमेरिकी डॉलर से अधिक हो गया है, और वे पारस्परिक निवेश में सबसे सक्रिय भागीदार बन चुके हैं। इसके साथ ही चीन और आसियान देश सक्रिय रूप से डिजिटल अर्थव्यवस्था, ई-कॉमर्स, हरित विकास आदि क्षेत्रों में सहयोग का विस्तार कर रहे हैं, दोनों के बीच औद्योगिक श्रृंखला व आपूर्ति श्रृंखला अधिक निकटता से जुड़ी हुई हैं।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)