एससीओ सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों की बैठक आयोजित

Spread the News

शांगहाई सहयोग संगठन (एससीओ) सदस्य देशों के राष्ट्राध्यक्षों की बैठक 16 सितंबर को समरक़ंद में आयोजित हुई, जिसमें चीनी राष्ट्राध्यक्ष शी चिनफिंग ने भाग लिया।उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शौकत मिर्जियोयेव ने बैठक की अध्यक्षता की। एससीओ सदस्य देशों में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, कज़ाखस्तान के राष्ट्रपति कसीम-जोमार्ट तोकायेव, किर्गिस्तान के राष्ट्रपति सदिर जापरोव, ताजिकिस्तान के राष्ट्रपति इमोमाली रहमोन, भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शहबाज शरीफ बैठक में उपस्थित हुए। विभिन्न देशों के नेताओं ने एससीओ के विकास और क्षेत्रीय राजनीतिक व आर्थिक स्थिति से संबंधित अहम अंतरराष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान किया। 

बैठक में शी चिनफिंग ने अपने भाषण में मौजूदा अध्यक्ष देश के रूप में उज्बेकिस्तान द्वारा समरक़ंद शिखर सम्मेलन के तैयारी कार्य करने, एससीओ के विकास को आगे बढ़ाने में किए गए सक्रिय प्रयास और महत्वपूर्ण योगदान का उच्च मूल्यांकन किया। उन्होंने कहा कि अपनी स्थापना के बाद पिछले 20 से अधिक सालों में एससीओ ने हमेशा शांगहाई भावना वाला झंडा उठाते हुए नए अंतरराष्ट्रीय संगठन के विकास के लिए एक सफल रास्ते की खोज की और सिलसिलेवार सार्थक और अहम अनुभव प्राप्त किए। वर्तमान में दुनिया अशांत है। एकता और विभाजन, सहयोग और टकराव की दो नीतियों के बीच मुकाबला तेजी से बढ़ रहा है। यह न केवल विश्व शांति और स्थिरता को प्रभावित करता है, बल्कि क्षेत्र के दीर्घकालिक विकास के लिए भी अनुकूल नहीं है।

जटिल स्थिति का सामना करते हुए हमें एससीओ के विकास की सही दिशा नियंत्रित करनी चाहिए, विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग को मजबूत करना चाहिए, सदस्य देशों के विकास और उत्थान के लिए लगातार अनुकूल स्थिति तैयार करनी चाहिए। शी चिनफिंग चार पहलुओं में प्रमुख कार्यों को बढ़ावा देने का सुझाव दिया। यानी कि शांगहाई भावना का प्रचार करते हुए एकता और सहयोग को सुदृढ़ करें, सामरिक स्वतंत्रता का पालन करते हुए क्षेत्रीय स्थिरता की रक्षा करें। आम उदारता और समावेशिता पर कायम रहते हुए विकास सहयोग को बढ़ावा दें। सदस्यता की विस्तार प्रक्रिया को आगे बढ़ाते हुए संगठन के प्रणालीबद्ध निर्माण को संपूर्ण करें।    

शी चिनफिंग ने बल देते हुए कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 20वीं राष्ट्रीय कांग्रेस आयोजित होने वाली है, जो अगले चरण में चीन का विकास खाका तैयार करेगी। चाहे अंतरराष्ट्रीय स्थिति में कोई भी परिवर्तन क्यों न आए, चीन हमेशा शांतिपूर्ण विकास, खुले विकास, सहकारी विकास और समान विकास पर डटा रहेगा। एससीओ को राजनयिक प्राथमिकता के रूप में लेगा। इसके साथ ही चीन अपने विकास से क्षेत्रीय देशों के विकास को बढ़ावा देने में मदद करेगा, ताकि सभी देशों के लोगों को ज्यादा लाभ पहुंचाया जा सके।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)