एक नयी विश्व व्यवस्था के बीच एससीओ का आयोजन बेहद महत्वपूर्ण है : भारतीय पत्रकार

Spread the News

इन दो दिनों उज्बेकिस्तान के समरकंद में शांगहाई सहयोग संगठन (एससीओ) का शिखर सम्मेलन होने जा रहा है जिसमें भारत, चीन, रूस, पाकिस्तान जैसे प्रभावशाली देश शामिल होंगे। सबसे बड़ी खास बात यह है कि कोविड-19 महामारी फैलने के बाद इन देशों के शीर्ष नेता एकसाथ इस मंच पर साथ दिखाई देंगे और पहली बार आमने-सामने बैठकर चर्चा करेंगे। 

भारतीय पत्रकार आरजू सिद्दीकी ने चाइना मीडिया ग्रुप (सीएमजी) के साथ खास बातचीत में कहा कि आज के समय में दुनिया तेजी से बदल रही है और एक नयी विश्व व्यवस्था बन रही है। इस दृष्टि में एससीओ का आयोजन बहुत महत्वपूर्ण हो जाता है। देखा जाए तो दुनिया की 40 फीसदी आबादी इन एससीओ देशों में ही मौजूद है और ये सभी एससीओ देश पूरी दुनिया की 30 फीसदी जीडीपी का प्रतिनिधित्व करते हैं। 

उन्होंने यह भी कहा कि इस समय पूरी दुनिया की नजर इस एससीओ शिखर सम्मेलन पर टीकी हुई है। यदि हम देखें तो रूस-यूक्रेन के बीच सैन्य संघर्ष के बाद अब तेजी से चीजें बदली हैं। इसके अलावा, पूरी दुनिया में क्षेत्रीय सहयोग पर भी जोर दिया जा रहा है। ऐसे में यह शिखर सम्मेलन बहुत महत्वपूर्ण भूमिका अदा करने जा रहा है।

कई प्रतिष्ठित मीडिया संस्थानों में काम कर चुके आरजू सिद्दीकी ने कहा कि बहुत हद तक संभव है कि इस शिखर सम्मेलन में एशिया-प्रशांत क्षेत्र की स्थिति पर चर्चा हो सकती है, साथ ही द्विपक्षीय सहयोग पर भी बातचीत हो सकती है। इसके अलावा, तमाम तरह के आर्थिक और व्यापारिक मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है, लेकिन रूस-यूक्रेन विवाद पर चर्चा होने की सबसे अधिक संभावना है। 

भारतीय पत्रकार आरजू सिद्दीकी ने यह भी कहा कि इस शिखर सम्मेलन के इतर चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच मुलाकात होने की भी संभावना है। यदि यह मुलाकात होती है तो यह न केवल दोनों देशों बल्कि पूरे एशियाई क्षेत्र के लिए भी बहुत महत्वपूर्ण होगा, क्योंकि दोनों ही देश एशिया में महादेश हैं। 

उन्होंने आगे कहा कि हालांकि इन दोनों देशों के बीच तमाम तरह के सीमा विवाद हैं फिर भी इन देशों के शीर्ष नेताओं का एक ही मंच पर आना और द्विपक्षीय वार्ता करना पूरे एशिया की शांति और समृद्धि के लिए बहुत अहम है। इसके अलावा, आपसी मुद्दों को सुलझाने का बेहतरीन मौका भी होगा।

(अखिल पाराशर, चाइना मीडिया ग्रुप, बीजिंग)