Bhagwant Mann व Kejriwal द्वारा जनता को फिल्म का दिखाया गया ट्रेलर कुछ और था और निकला कुछ और: Ashwani Sharma

Spread the News

चंडीगढ़: भारतीय जनता पार्टी पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने भगवंत मान सरकार के 6 महीने के कार्यकाल तथा कार्यशैली पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि किसी भी राज्य सरकार का मूल्यांकन उस सरकार द्वारा जनता के साथ चुनाव के समय किए गए वादों को लेकर या फिर उस राज्य की कानून-व्यवस्था की स्थिति से किया जाता है। भाजपा मुख्यालय चंडीगढ़ में आयोजित पत्रकारवार्ता के दौरान अश्वनी शर्मा ने कहा कि पंजाब में भगवंत मान सरकार द्वारा किए गए चुनावी वादे आज धीरे-धीरे सिसकियाँ ले रहे हैं। पंजाब को ‘रंगला पंजाब’ बनाने का वादा करने वाली पंजाब सरकार ने पंजाब को रंगला तो बना दिया है, लेकिन उस रंगले पंजाब को रंगने के लिए खिलाड़ियों, गायकों तथा अन्य लोगों के खून, हत्याओं, नशे, राज्य के विनाश का प्रयोग किया है।

अश्वनी शर्मा ने कहा कि दिल्ली से आए शेखचिल्ली केजरीवाल ने पंजाब की भोली-भाली जनता को झूठे वादों से मुर्ख बनाया और पंजाब की सत्ता हासिल की। मान सरकार के छे: महीनों के कार्यकाल में जनता को दिखाए गए सुनहरे सपने चकनाचूर हो गए। मुख्यमंत्री भगवंत मान को अपने छे महीने का रिपोर्टकार्ड जनता के समक्ष रखना चाहिए था, लेकिन वो तो सैर-सपाटे में ही व्यस्त हैं। मान सरकार जनता के समक्ष जवाबदेही से भाग रही है। भगवंत मान तथा केजरीवाल द्वारा चुनाव में पंजाब में कानून-व्यवस्था स्थापित करने, भ्रष्टाचार खत्म करने के किए वादे सिर्फ घोषणाओं तक ही सीमित रह गए। इनके मंत्रियों द्वारा भ्रष्टाचार के रिकॉर्ड कायम किए जा रहे हैं, लेकिन केजरीवाल, भगवंत मान या इनके मंत्री उन मामलों पर अपना मुँह नहीं खोलते। मान सरकार मंत्री फौजा सिंह सरारी की मोलभाव करने की वायरल हुई ऑडियो पर मान सरकार के मंत्री अपना मुँह क्यूँ खोलते? आप सरकार पर पंजाबी की एक कहावत बिलकुल फिट बैठती है कि ‘अपने घर रज्जी-पुज्जी ते आपे मेरे बच्चे जीन’। कौन ईमानदार है और कौन भ्रष्ट, यह सिर्फ अरविन्द केजरीवाल द्वारा तय किया जाता है और उन्हें केजरीवाल द्वारा प्रमाणपत्र दिया जाता है।

खुद को कट्टर ईमानदार कहने वाले आप नेताओं द्वारा ट्रक यूनियनों पर कब्जे किए जा रहे हैं, पैसों का लें-दें किया जा रहा है, कब्जाई जमीनों को खाली करवाने के नाम पर जबरन कब्जे किए जा रहे हैं। पंजाब में भ्रष्टाचार मुक्त सरकार देने, पहले से चल रहे उद्योगों में जन फूंकने तथा नई उद्योगिक पॉलिसी लाने, अनाधिकृत माईनिंग बंद करने तथा अधिकृत माईनिंग पॉलिसी लाने की बातें करने वाले आप सरकार ने एक भी वादा पूरा नहीं किया गया। दूसरों पर व्यंग्य कसने वाले आप नेताओं के शासन में आज रेत-बजरी लिफाओं में भी नहीं मिल रहा। पंजाब में हर तरह के निर्माण कार्य बंद हो गए हैं। यहाँ तक कि पंजाब से उद्योग भी बंद हो रहे हैं, सिर्फ कुछ ही शेष बचे हैं और वो दूसरे राज्यों में पलायन करने की सच रहे है। उद्योग बंद होने से बेरोज़गारी भी बढ़ गई है। माननीय अदालत द्वारा रोज़ाना पंजाब सरकार को फटकार लगाई जा रही है।

अश्वनी शर्मा ने कहा कि भगवंत मान के वित्तमंत्री हरपाल चीमा द्वारा विधानसभा में पंजाब का पेपरलेस बजट पेश किया गया, जिससे महज 21 लाख रुपए की बचत हुई, लेकिन इसका ढिंढोरा पीटने के लिए भगवंत मान ने 42 लाख रुपए खर्च कर दिए। प्रत्येक महिला को 1000 रुपए देने की घोषणा करने वाले भगवंत मान ने महिलाओं को तो कुछ दिया नहीं अपितु इसके विज्ञापनों पर करोड़ों रुपए खर्च दिए। पंजाब में 16,000 मोहल्ला क्लीनिक बनाने की घोषणाएं करने वालों ने महज 100 क्लीनिक खोले और वो भी पहले से बंद पड़े सुविधा सेंटरों में, जिनमें नियुक्त किया गया स्टाफ इस्तीफे दे रहा है। 6 महीनों में 100 मोहल्ला क्लीनिक खोलने वाले 5 वर्षों में के कितने क्लीनिक खोलेंगें? उल्टा प्रधानमंत्री नरेंदर मोदी के नेतृत्व में केंद्र सरकार द्वारा पंजाब की गरीब एवं जरूरतमंद जनता के स्वास्थ्य लाभ हेतु चलाई जा रही ‘आयुष्मान भारत योजना’ भी पंजाब में बंद कर दी। पंजाब को 600 यूनिट मुफ्त देने की घोषणा करने वाली पंजाब सरकार ने कितने लोगों को फ्री बिजली दी, इसके बारे में जनता के समक्ष आंकड़े बताने से आप सरकार भाग क्यूँ रही है? उल्टा इन सबके विज्ञापनों पर पंजाब की जनता के तैसा के करोड़ों रुपए खर्च दिए हैं।

अश्वनी शर्मा ने कहा कि दिल्ली में जब भ्रष्टाचार और घोटालों की परतें खुलने लगी तो जब उसकी तपिश पंजाब तक पहुंची तो पंजाब की आप सरकार भी बिलबिलाने लगी। पंजाब के खज़ाने को भरने की बातें करने वाले भगवंत मान ने छे: महीने में 12,000 करोड़ रुपए कर्ज़ लिया है और जिस रफ्तार से भगवंत मान कर्ज़ लिया है, यह पाँच साल में कितना कर्ज़ लेंगे इसका हिसाब लगा कर भी डर लगता है। वीवीआईपी सुरक्षा ना लेने की बड़ी बड़ी बातें करने वाले केजरीवाल और भगवंत मान तथा इनके मंत्री सैकड़ों सुरक्षा कर्मियो के घेरे में रहते हैं। इस सबसे स्पष्ट है कि पंजाब की भगवंत मान सरकार पंजाब की जनता के प्रति कितनी संवेदनशील है? भगवंत मान सरकार विज्ञापनों की सरकार है, जो किसी को कुछ नहीं देगी। यह शेखचिल्लियों के कार्य नहीं तो और क्या है?

अश्वनी शर्मा ने कहा कि झूठ की बैसाखियों के सहारे पंजाब की सत्ता हासिल करने वाले भगवंत मान को पंजाब में सरकार चलाना मुश्किल हो रहा है, क्यूंकि जनता उनसे जवाब मांगती है। आज पंजाब के करीब सभी सरकारी विभागों के कर्मचारी, किसान, अध्यापक, बिजली विभाग के कर्मचारी, परिवहन विभाग कर्मचारी, नगर निगमों के कर्मचारी, यहाँ तक कि सैक्टरेट के कर्मचारी भी भगवंत मान सरकार के विरुद्ध धरने-प्रदर्शन कर रहे हैं। साफ़ शब्दों में कहें तो भगवंत मान व केजरीवाल द्वारा जनता को दिखाई गई फिल्म का ट्रेलर कुछ और था और फिल्म निकली कुछ और। आप सरकार की फिल्म फ्लॉप हो चुकी है और जनता अब इन्हें सबक सिखाने के मन बना चुकी है। इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष के साथ मंच पर प्रदेश भाजपा महसचिव डॉ. सुभाष शर्मा, राजेश बाग़ा, दयाल सिंह सोढ़ी. एस.एस. चन्नी भी उपस्थित थे।