हरियाणा में पंचायत चुनाव 15 नवंबर तक संभव, बीसी ए के वार्ड आरक्षित करने में हुई देरी

Spread the News

चंडीगढ़: हरियाणा में पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव में फिर देरी हो गई है। पहले 30 सितंबर तक चुनाव कराने की अधिसूचना प्रदेश सरकार ने जारी की थी। मगर बाद में बीसी ए कैटेगरी को आरक्षण देने के चक्कर में दिवाली से पहले चुनाव कराने की योजना थी। हालांकि प्रदेश सरकार ने फैसला नहीं किया था। बीसी ए सीटों की संख्या निर्धारित करने के लिए परिवार पहचान पत्र (पीपीपी) डाटा की आवश्यकता थी। मगर यह डाटा विकास एवं पंचायत विभाग को वास्तव में 16 सितंबर की शाम मिल पाया। हालांकि यह डाटा 10 सितंबर को देने की बात कही गई थी। इसलिए बीसी ए सीटों का निर्धारण नहीं हो सका।

इस चक्कर में बीसी ए वार्ड आरक्षित करने के लिए ड्रा नहीं हो पाया। पहले 19 सितंबर तक ड्रा निकालने की बात कही थी और जिला उपायुक्तों ने पहले 12 सितंबर और बाद में 19 सितंबर और कुछ ने 20 सितंबर की तारीख तय की। मगर 16 सितंबर तक बीसी ए सीटों की संख्या तय न होने के कारण ड्रा की प्रक्रिया पूरी नहीं हो सकी। उधर, राज्य चुनाव आयोग ने भी प्रदेश सरकार को पत्र लिखकर कहा है कि चूंकि 30 सितंबर तक चुनाव कराने की अधिसूचना प्रदेश सरकार ने की थी मगर अभी तक बीसी ए वार्ड आरक्षित नहीं हो सके। अनुसूचित जाति के लिए सरपंच, पंचायत और जिला परषिद सदस्य, पंचायत समिति अध्यक्ष, जिला परिषद प्रधान पद आरक्षित नहीं हो सके हैं इसलिए 30 सितंबर की तारीख बढ़ाकर 30 नवंबर, 2022 कर दी जाए।