PM Modi ने श्योपुर सहित चंबल-ग्वालियर अंचल के सभी लोगों का गौरव बढाया- Narendra Tomar

Spread the News

कराहल (श्योपुर, म.प्र.) : श्योपुर जिले के कराहल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुख्य आतिथ्य में आज स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) का वृहद सम्मेलन हुआ।इसमें एसएचजी की हजारों महिला-सदस्यों वसामुदायिक संसाधन व्यक्तियों ने भाग लिया, जिन्हें दीनदयाल अंत्योदय योजना-राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत बढ़ावा दिया जा रहा है। इस अवसर पर मोदी ने कहा कि पिछली शताब्दी के भारत और इस शताब्दी के नए भारत में एक बहुत बड़ा अंतर हमारी नारी शक्ति के प्रतिनिधित्व के रूप में आया है। आज के नए भारत में पंचायत भवन से लेकर राष्ट्रपति भवन तक नारीशक्ति का परचम लहरा रहा है। जिस भी सेक्टर में महिलाओं का प्रतिनिधित्व बढ़ा है, उस क्षेत्र में, उस कार्य में सफलता अपने आप तय हो जाती है।

स्वच्छ भारत अभियान की सफलता इसका बेहतरीन उदाहरण है, जिसको महिलाओं ने नेतृत्व दिया है। म.प्र. में पंचायत चुनावों में 17 हजार महिलाएं विजयी हुई है, ये बड़े बदलाव का संकेत हैं। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री एवं क्षेत्रीय सांसद नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने कुनो राष्ट्रीय अभयारण्य में नामीबिया से चीते बुलाकर ऐतिहासिक सौगात देकर श्योपुर सहित चंबल-ग्वालियर अंचल के सभी लोगों का गौरव बढ़ाया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कुनो में चीतों के रूप में प्रदान की गई सौगात से इस क्षेत्र व जनता की तकदीर बदलेगी।

मोदी ने कहा कि 8 वर्षों में एसएचजी सशक्त बनाने में हमने हर प्रकार से मदद की है। आज पूरे देश में 8 करोड़ से अधिक बहनें इस अभियान से जुड़ी हैं।हमारा लक्ष्य है कि हर ग्रामीण परिवार से कम से कम एक बहन इस अभियान से जुड़े। मोदी ने कहा कि गांवों की अर्थव्यवस्था में, महिला उद्यमियों को आगे बढ़ाने के लिए, उनके लिए नई संभावनाएं बनाने के लिए हमारी सरकार निरंतर काम कर रही है। ‘वन डिस्ट्रिक्ट, वन प्रोडक्ट’ के माध्यम से हम हर जिले के लोकल उत्पादों को बड़े बाज़ारों तक पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं। सितंबर का ये महीना देश में पोषण माह के रूप में मनाया जा रहा है। भारत की कोशिशों से संयुक्त राष्ट्र ने वर्ष 2023 को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पोषक-अनाज वर्ष के रूप में मनाने की घोषणा की है। मोदी ने कहा कि देश में 11 करोड़ से ज्यादा शौचालय बनाकर, 9 करोड़ से ज्यादा उज्जवला के गैस कनेक्शन देकर और करोड़ों परिवारों में नल से जल देकर सरकार ने उनका जीवन आसान बनाया है। वर्ष 2014 के बाद से ही देश, महिलाओं की गरिमा बढ़ाने, महिलाओं के सामने आने वाली चुनौतियों के समाधान में जुटा हुआ है।शौचालय के अभाव में जो दिक्कतें आती थीं, रसोई में लकड़ी के धुएं से जो तकलीफ होती थी, वो आप अच्छी तरह जानती हैं।

मोदी ने कहा कि महिलाओं का आर्थिक सशक्तिकरण उन्हें समाज में भी उतना ही सशक्त करता है।हमारी सरकार ने बेटियों के लिए बंद दरवाजे को खोल दिया है। बेटियां अब सैनिक स्कूलों में भी दाखिला ले रही हैं, पुलिस कमांडो भी बन रही हैं और फौज में भी भर्ती हो रही हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि मुझे आज इस बात की भी खुशी है कि भारत की धरती पर अब 75 साल बाद चीता फिर से लौट आया है, मुझे कुनो नेशनल पार्क में चीतों को छोड़ने का सौभाग्य मिला है।केंद्रीय मंत्री तोमर ने स्वागत भाषण में कहा किश्योपुर छोटा जिला है लेकिन प्राकृतिक संपदा से परिपूर्ण है। आज सबके लिए प्रसन्नता की बात है कि वनाच्छादित इस परिक्षेत्र में गरीब-किसान-महिलाओं से मिलने दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता मोदीजी पधारे और आजादी के अमृत महोत्सव में आज चीतों की बहुत बड़ी सौगात दी है। तोमर ने कहा कि बरसों पहले यहां के गांवों के लोगों को अभयारण्य बनाने के नाम पर विस्थापित कर दिया गया था। प्रधानमंत्री मोदी सेमैंने श्योपुर पधारने का आग्रह किया था, तब मोदीजी ने कहा था कि वे चीतों के साथ ही श्योपुर पहुंचेंगे। आज इंतजार की घड़ियां समाप्त हो गई और मोदीजी ने कुनो में चीतों का पुनर्स्थापनकर दिया। जब चीते कुनो लाने की कल्पना प्रधानमंत्रीजी के मन में आई, तबकुनो के माध्यम से इस पूरे क्षेत्र को और प्रतिष्ठा दिलाने का भाव उनमें था, आज इसके पूर्ण होनेसे श्योपुर का घर-घर उल्लास सेभरा हुआ है। ग्वालियर चंबल संभाग सहित देशभर के लोग कुनो में चीतों के आगमन पर प्रसन्नता से झूम रहे है। पीएम द्वारा चीता सेंचुरी का प्रारंभ हम सबके लिए बहुत महत्वपूर्ण है। तोमर ने पीएम मोदी को उनके जन्मदिन परजनता की ओर से बधाईदी

तोमर ने कहा किक्षेत्र में सहरिया आदिवासियों की बड़ी संख्या हैं, जो जीवन में बदलाव का इंतजार कर रहे थे, यह साकार हो रहा है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व में गरीबों के जीवन स्तर में बदलाव लाने का काम किया जा रहा है, उन्हें कुपोषण से उबारा गया है। एक हजार रु. प्रतिमाह आदिवासी बहनों को देने से भी लाभ हुआ है। प्रदेश में एसएचजी केलाखों सदस्य हैं, वहीं देश में 74 लाख से ज्यादा एसएचजी काम कर रहे हैं। श्योपुर की बहनें बड़ी संख्या में एसएचजी से जुड़ी हुई है। तोमर ने कहा किकोविड से निपटने के लिए सबने सामर्थ्य अनुरूप सहयोग के हाथ आगे बढ़ाएं, तब श्योपुर की बहनों ने 50 हजार ली. सैनेटाइजर केसाथ ही बड़ी संख्या में मास्क व पीपीई किट बनाने का काम किया। बहनों ने सार्वजनिक रसोई चलाई और गांवों में आशा कार्यकर्ताओं व आंगनवाड़ी बहनें भी काम करती रही। मुख्यमंत्री ने कहा कि चीतों की सौगात से क्षेत्र व जनता की तकदीर बदलेगी, इंफ्रास्ट्रक्चर का विकास होगा, पर्यटन व्यवसाय बढ़ेगा। यहां सरकार विशेष सुविधाएं देगी। अब एक नहीं, कई दीदी कैफे क्षेत्र में चलेंगे व आजीविका की गाड़ी चल जाएगी।

एसएचजी की बहनों ने महिला सशक्तिकरण का उदाहरण पेश किया है। म.प्र. में एक नई जागृति आई है। बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ सहित केंद्र की योजनाएं म.प्र. में अच्छे से लागू की गई हैं। राज्यपाल मंगूभाई पटेल, केंद्रीय मंत्री वीरेंद्र कुमार, ज्योतिरादित्य सिंधिया, प्रहलाद सिंह पटेल, फग्गनसिंह कुलस्तेएवं भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष-सांसद वी.डी. शर्मा, राजस्थान-म.प्र. के सांसद, म.प्र. के मंत्रीगणएवं अन्य जनप्रतिनिधि मौजूद थे। इस मौके पर एसएचजी की दो बहनों ने अनुभव साझा करते बताया कि पहले वे मजदूरी करती थी, अब सरकार की नीतियों-योजनाओं से मालिक बन गई है।कार्यक्रम में पीएम नेप्रतीक स्वरूप दो बहनों को विविध योजनाओं में क्रमशः 10 लाख रु. का चेकव किट प्रदान किया। साथ ही, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत विशेष रूप से कमजोर जनजातीय समूहों (पीवीटीजी) के लिए 4 कौशल केंद्रों का उद्घाटन किया।