विधायकों की खरीद-फरोख्त का मामला: फोन कॉल्स की होगी वॉयस सैंपलिंग, विजीलैंस ब्यूरो ने विशेषज्ञों की टीम की गठित

Spread the News

चंडीगढ़: विधायकों की खरीद-फरोख्त और धमकियां दिए जाने को लेकर भाजपा पर आरोप लगाने वाली आम आदमी पार्टी की शिकायत पर विजीलैंस ब्यूरो ने जांच शुरू कर दी है। पार्टी की ओर से सौंपी गई आडियो क्लिप्स में फोन कॉल्स करने वालों के वाइस सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। शिकायत में चूंकि पंजाब भाजपा के कुछ नेताओं पर शक जताया गया है लिहाजा ब्यूरो अपने स्तर पर इसका पता लगा रही है।

सूत्रों के मुताबिक ब्यूरो की टीम ने कहा कि जिन विधायकों को फोन कॉल्स आई हैं उनके बयान कलमबद्ध किए जा रहे हैं। सभी विधायकों को इंटरनैशनल नंबरों से फोन कॉल्स आई हैं। ब्यूरो ने विशेषज्ञों की एक टीम का गठन किया है जो फोन कॉल्स की राई से पड़ताल करेगी और वाइस सैंपल की जांच के बाद इनकी पहचान का प्रयास किया जाएगा। इसके अलावा विशेषज्ञों की टीम इंटरनैशनल मोबाइल इक्यूपमैंट आईडैंटिटी (आई.एम.ई.आई.) नंबर के जरिए उन मोबाइल फोन की भी तलाश करेगी कि यह मोबाइल फोन कहां उपयोग हो रहे हैं और इसमें कौन-कौन से सिम का उपयोग किया गया है। कुछ विधायकों को एक बार से अधिक कॉल्स आई हैं। विशेषज्ञों की टीम यह भी पता लगाने में जुटी है कि फोन कॉल्स करने वाला एक ही शख्स है या अलग-अलग लोगों ने फोन किए हैं। इसलिए वाइस सैंपलिंग की गई है।

साथ ही इस बात की भी जांच हो रही है कि विधायकों को एक ही व्यक्ति ने अलग-अलग नंबरों से फोन किए हैं या फोन कॉलर एक से अधिक हैं। ब्यूरो की टीम ने विधायकों से कहा है कि अगर उन्हें किसी पर शक है तो वह जरूर बताए इससे उन्हें जांच में आसानी होगी। जानकारी के मुताबिक आप विधायक शीतल अंगुराल को फोन पर मिली धमकी की पुलिस जांच कर रही है। इसके लिए भी वाइस सैंपल लिए गए हैं और जांच रिपोर्ट के बाद ही कुछ स्पष्ट होगा तभी अगली कार्रवाई की जाएगी।