‘भारत जोड़ो’ यात्रा में आमंत्रण ना मिलने से कर्ण सिंह नाराज, बोले- लगता है अब कांग्रेस को मेरी जरूरत नहीं

Spread the News

नई दिल्ली: गोवा में कांग्रेस के आठ विधायकों के दलबदल के कुछ ही दिनों बाद वरिष्ठ कांग्रेस नेता और कश्मीर मामलों में पार्टी के मजबूत साथी माने जाने वाले कर्ण सिंह ने उपेक्षा किए जाने की शिकायत की है। यह शिकायत ऐसे समय में सामने आई है, जब पार्टी की भारत जोड़ो यात्रा चल रही है। इसका समापन कश्मीर में होगा, जहां भारत में विलय से पहले करण सिंह के पिता हरि सिंह तत्कालीन शासक थे। उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने का आमंत्रण न मिलने पर निराशा जताते हुए कहा कि ऐसा लगता है कि पार्टी को अब उनकी जरूरत नहीं है।

सिंह ने कहा, ‘‘मुझे भारत जोड़ो यात्रा के लिए आमंत्रित नहीं किया गया है। कुछ वर्षों से मैं पार्टी से अलग महसूस कर रहा हूं। न तो मैं पार्टी की किसी समिति में हूं और न ही पार्टी ने हाल के वर्षों में मुझसे परामर्श किया है। मैं पूरी जिंदगी पार्टी में रहा, लेकिन ऐसा लगता है कि उन्हें अब मेरी जरूरत नहीं है।’’

उन्होंने आगे कहा, ‘‘मैंने इस दुनिया में बहुत कुछ देखा है, इसलिए यह मुझे अब ज्यादा चोट नहीं पहुंचाता। मुझे कांग्रेस के माध्यम से बहुत सी चीजें मिली हैं। लेकिन, एक समय आता है जब आपके आस-पास के लोग सोचते हैं कि कोई जरूरत नहीं है। कोई संपर्क नहीं, कोई मुझसे कुछ नहीं पूछता।’’

गौरतलब है कि न केवल करण सिंह ऐसे नेता हैं जो संकेत दे रहे हैं कि वह पार्टी से परेशान हैं, बल्कि गुलाम नबी आजाद, कपिल सिब्बल, अश्विनी कुमार, जितिन प्रसाद, आरपीएन सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया जैसे नेता भी कांग्रेस से अलग होने वालों की सूची में है। आजाद ने पार्टी नेतृत्व पर हमला बोलते हुए यहां तक कह दिया कि पार्टी में पीए और सुरक्षा गार्ड शो चला रहे हैं।

पार्टी के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद के बाहर होने के बारे में पूछे जाने पर कर्ण सिंह, जो जम्मू-कश्मीर के पूर्व शाही परिवार से हैं, ने कहा कि इसका प्रभाव पड़ेगा और पार्टी को नुकसान होगा।