यूनिवर्सिटी मामला: ADGP गुरप्रीत कौर का दावा, गिरफ्तार की गई छात्रा की ही मोबाइल में मिलीं Videos

Spread the News

चंडीगढ़: चंडीगढ़ यूनिवर्सिटी वीडियो मामले को लेकर एडीजीपी गुरप्रीत कौर दियो, डीआईजी गुरप्रीत सिंह भुल्लर और एसएसपी विवेक शील सोनी ने संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस की, जिसमें एडीजीपी गुरप्रीत कौर दियो ने मामले पर विस्तार सहित जानकारी देते हुए कहा, शुरुआत में यह बात सामने आई थी कि यूनिवर्सिटी की एक लड़की ने अपने फ़ोन में कुछ लड़कियों की आपत्तिजनक वीडियो बनाई है। पुलिस लड़की को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है और उसका फ़ोन में सिर्फ उसकी ही वीडियोज़ थीं, किसी और छात्रा की कोई वीडियो नहीं मिली। फोन को जांच के लिए भेज दिया गया है।

कॉमन बाथरूम में लीं तस्वीरें: एडीजीपी 
उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर बहुत सारी अफवाहें फ़ैल रही थीं, जिसके बाद मुझे यहां मामले की जांच के लिए बुलाया गया। इस दौरान करीब 50-60 लड़कियों को बुला कर उनसे बात की गई तो उनमें से 3-4 लड़कियां जो उस वक़्त वहां मौजूद थीं, उन्होंने देखा कि एक लड़की, जिसे हमने गिरफ्तार किया है, वह कॉमन बाथरूम में कुछ आपत्तिजनक तस्वीरें ले रही है। लड़कियों ने इस बात की जानकारी वॉर्डन को दी, जिसके बाद वॉर्डन ने पुलिस को इस मामले की सूचना दी और लड़की का फ़ोन भी पुलिस के हवाले कर दिया।

आरोपी लड़की की निजी वीडियोज़: एडीजीपी 
एडीजीपी दियो ने आगे जानकारी देते हुए बताया कि इस मामले में किसी भी लड़की द्वारा खुदकुशी नहीं की गई। बल्कि लड़कियों ने पुलिस से कहा कि वह अब सुरक्षित महसूस कर रही हैं। दियो ने कहा कि हमने फ़ोन की भी जांच की, जिसमें से किसी भी छात्रा का ऐसा कोई वीडियो नहीं मिला है जो आपत्तिजनक हो, सिवाय एक लड़की द्वारा शूट किए गए एक निजी वीडियो के, जिसे उसने अपने प्रेमी के साथ साझा किया था। उन्होंने यह भी बताया कि पुलिस उसके प्रेमी को भी गिरफ्तार करने के लिए निकल चुकी है, जोकि शिमला में रहता है।

यूनिवर्सिटी प्रबंधन का स्पष्टीकरण
बता दें कि इस मामले को लेकर यूनिवर्सिटी के प्रो-चांसलर डॉ. आर.एस. बावा ने का भी आधिकारिक बयान आया है। उन्होंने भी इन ख़बरों का खंडन करते हुए कहा कि, ‘ऐसी अफवाहें हैं कि 7 लड़कियों ने आत्महत्या कर ली है, जबकि सच्चाई यह है कि किसी भी लड़की ने ऐसा कदम उठाने की कोशिश नहीं की है। घटना में किसी लड़की को अस्पताल में भर्ती नहीं कराया गया है। छात्राओं के आपत्तिजनक वीडियो शूट करने की सभी अफवाहें पूरी तरह से झूठी और निराधार हैं।