ली चानशू ने दक्षिण कोरिया की आधिकारिक सद्भावना यात्रा की 

Spread the News

दक्षिण कोरिया नेशनल असेंबली के अध्यक्ष किम जिनप्यो के निमंत्रण पर चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा की स्थायी समिति के अध्यक्ष ली चानशू ने 15 से 17 सितंबर तक दक्षिण कोरिया की आधिकारिक सद्भावना यात्रा की। इस यात्रा में उन्होंने दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति यूं सोकवूक से मुलाकात की और दक्षिण कोरिया नेशनल असेंबली के अध्यक्ष किम जिनप्यो के साथ बातचीत की।

राष्ट्रपति यूं सोक-वूक से मुलाकात करने के दौरान ली चानशू ने कहा कि वर्ष 2022 चीन और दक्षिण कोरिया के बीच राजनीतिक संबंध की स्थापना की 30वीं वर्षगांठ है। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और दक्षिण कोरियाई राष्ट्रपति यूं सोकवूक ने एक दूसरे को बधाई पत्र भेजे हैं। उन्होंने चीन-दक्षिण कोरिया संबंध की उपलब्धियों व महत्वपूर्ण अनुभवों को संक्षेप में प्रस्तुत किया और द्विपक्षीय संबंध के विकास की दिशा को संयुक्त रूप से इंगित किया। चीन ने हमेशा दोनों देशों के बीच संबंध को एक महत्वपूर्ण स्थान पर रखा है। चीन दक्षिण कोरिया के साथ संचार मजबूत करने, सामान्य प्रवृत्ति को समझने, हस्तक्षेप को खत्म करने, सहयोग पर जोर देने और दोस्ती को मजबूत करने के लिए तैयार है। इसलिये वे चीन-दक्षिण कोरिया संबंध के स्थिर और दीर्घकालिक विकास को संयुक्त रूप से बढ़ा सकेंगे और दोनों देशों व दोनों देशों के लोगों को बेहतर लाभ मिल सकेंगे। आर्थिक और व्यापार सहयोग दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध का एक महत्वपूर्ण आकर्षण है।

दोनों पक्षों को सहयोग को और गहरा करना, विकास रणनीतियों के संरेखण को मजबूत करना और चीन-दक्षिण कोरिया मुक्त व्यापार समझौता वार्ता के दूसरे चरण को जल्द से जल्द पूरा करना चाहिए। साथ ही उन्हें औद्योगिक श्रृंखला व आपूर्ति श्रृंखला की सुरक्षा व स्थिरता सुनिश्चित करना और एक नियम आधारित मुक्त व्यापार प्रणाली को संयुक्त रूप से बनाए रखना चाहिए। दोनों देशों के लोगों के बीच दोस्ती द्विपक्षीय संबंधों के विकास की नींव है। चीन और दक्षिण कोरिया को संस्कृति, मीडिया और थिंक टैंक आदि क्षेत्रों में द्विपक्षीय आदान-प्रदान को आगे मजबूत करना और दोनों देशों के लोगों के बीच आपसी समझ व दोस्ती को बढ़ाना चाहिए। चीन-दक्षिण कोरिया संबंध के स्वस्थ और स्थिर विकास को सुनिश्चित करने के लिए संवेदनशील मुद्दों को ठीक से संभालना महत्वपूर्ण है। चीन प्रमुख क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर दक्षिण कोरिया के साथ संचार और समन्वय को मजबूत करने के लिए तैयार है। इसीलिये वे क्षेत्रीय व विश्व शांति, स्थिरता, विकास और प्रगति को बढ़ाने में संयुक्त योगदान दे सकेंगे।

वहीं, राष्ट्रपति यूं सोकवूक ने कहा कि दक्षिण कोरिया और चीन के बीच राजनीतिक संबंध की स्थापना की 30वीं वर्षगांठ के मौके पर उन्होंने राष्ट्रपति शी चिनफिंग के साथ एक दूसरे को बधाई पत्र भेजे हैं। उन्होंने एक साथ द्विपक्षीय संबंध के विकास की समीक्षा की और अगले 30 वर्षों में द्विपक्षीय संबंध को और विकसित करने की अपनी इच्छा की पुष्टि की। दक्षिण कोरिया-चीन राजनयिक संबंध की स्थापना के बाद से, दोनों देशों के बीच संबंध को काफी प्रगति मिली है। अर्थव्यवस्था, व्यापार और संस्कृति आदि क्षेत्र में आदान-प्रदान व सहयोग में उन्होंने उपयोगी परिणाम प्राप्त किये हैं। उम्मीद है कि दक्षिण कोरिया और चीन उच्च स्तरीय आदान-प्रदान और सभी स्तरों पर संवाद व संचार को मजबूत करेंगे, पारस्परिक लाभ व आम जीत के परिणामों का पालन करेंगे और सामान्य हितों का विस्तार करेंगे। साथ ही, मूर्त परिणाम प्राप्त करने के लिए दोनों देशों के बीच संबंध को बढ़ाया जा सकेगा। दोनों देशों के लोगों विशेष रूप से युवाओं के बीच मैत्रीपूर्ण भावनाओं को बढ़ाया जा सकेगा, सांस्कृतिक व खेल आदान-प्रदान को मजबूत हो सकेगा और अंतरराष्ट्रीय व क्षेत्रीय मामलों में निकट सहयोग को किया जा सकेगा। ताकि अगले 30 वर्षों में दक्षिण कोरिया और चीन के बीच संबंध को आगे बढ़ाया जा सकेगा और अधिक से अधिक विकास हासिल किया जा सकेगा।

किम जिनप्यो के साथ बातचीत करने के दौरान ली चानशू ने कहा कि चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा दक्षिण कोरियाई राष्ट्रीय सभा के साथ विभिन्न क्षेत्रों में व्यावहारिक सहयोग को बढ़ाने और चीन-दक्षिण कोरिया संबंध के निरंतर, स्वस्थ व स्थिर विकास को बढ़ाने के लिये तैयार है। दोनों पक्षों को नियमित विनिमय तंत्र का अच्छा उपयोग करना चाहिए और विभिन्न क्षेत्रों में पारस्परिक रूप से लाभकारी सहयोग को गहरा करने के लिए कानूनी गारंटी प्रदान करनी चाहिए। आर्थिक विकास और जन-आजीविका में सुधार आदि क्षेत्रों में चीन और दक्षिण कोरिया को एक-दूसरे से सीखना चाहिए। दोनों पक्षों को चीन और दक्षिण कोरिया के बीच आदान-प्रदान में भाग लेने के लिए और अधिक युवाओं को प्रोत्साहित करना चाहिए। साथ ही उन्हें दोनों देशों के बीच सामाजिक व जनमत के बीच दोस्ती की नींव को मजबूत करने के लिए एक अच्छा माहौल बनाना चाहिए। 

किम जिनप्यो ने कहा कि दक्षिण कोरिया और चीन की विधायिकाओं ने घनिष्ठ आदान-प्रदान बनाए रखा है और दक्षिण कोरिया-चीन संबंध को बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। दक्षिण कोरियाई राष्ट्रीय सभा चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा के साथ आदान-प्रदान को आगे मजबूत करने के लिये तैयार है। साथ ही, वे दोनों देशों के बीच आर्थिक व व्यापार सहयोग को बढ़ाने, औद्योगिक व आपूर्ति श्रृंखला की सुरक्षा बनाए रखने, पर्यावरण की रक्षा करने व जलवायु परिवर्तन शासन करने, प्रायद्वीप पर शांति और स्थिरता बनाए रखने, सांस्कृतिक आदान-प्रदान का विस्तार करने और जनता के बीच मित्रता बढ़ाने में सकारात्मक योगदान देने के लिए तैयार है। दोनों पक्षों ने कोरियाई प्रायद्वीप की स्थिति आदि आम चिंतित मुद्दों पर विचार-विमर्श भी किया।

(साभार—चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)