Priyanka Chopra ने संयुक्त राष्ट्र महासभा में की बच्चों के अधिकारों की बात, कहा- हमें एक साथ काम करना चाहिए

Spread the News

मुंबई: बॉलीवुड की देसी गर्ल यानि प्रियंका चोपड़ा, जो 2016 में वैश्विक यूनिसेफ सद्भावना राजदूत बनीं और लगभग 15 वर्षों से संगठन से जुड़ी हुई हैं, ने हाल ही में न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) में आयोजित एक सम्मेलन में बच्चों के अधिकारों के बारे में बात की।एक्ट्रेस ने अपने इंस्टाग्राम पर उस कार्यक्रम की कुछ तस्वीरें साझा की, जहां उन्हें नोबेल शांति पुरस्कार विजेता मलाला यूसुफजई और अमेरिकी कवि अमांडा गोर्मन के साथ पोज देते हुए देखा जा सकता है।

उन्होंने तस्वीरों और वीडियो को कैप्शन दिया, ‘‘यूएनजीए में दूसरी बार बोलने के लिए आज सुबह संयुक्त राष्ट्र पहुंची, यूनिसेफ के एक गर्वित प्रतिनिधि के रूप में, मुझे बहुत अच्छा लगा।’’ वर्ष 2022 के लिए संयुक्त राष्ट्र के एजेंडे पर प्रकाश डालते हुए, उन्होंने आगे लिखा, ‘‘इस साल के एजेंडे में सबसे ऊपर सतत विकास लक्ष्य है। आज का दिन कार्रवाई, महत्वाकांक्षा और आशा के बारे में था। एसडीजी को हकीकत में बदलने के लिए हमें एक साथ काम करना चाहिए, और हमारे पास खोने के लिए एक पल भी नहीं है। मुझे बुलाने के लिए महासचिव एंटोनियो गुटेरेस को विशेष धन्यवाद।’’

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Priyanka (@priyankachopra)

उन्होंने बच्चों के लिए शिक्षा के महत्व के बारे में भी बात की – कुछ ऐसा जो हर बच्चे का जन्मसिद्ध अधिकार है। ‘‘दूसरा जिसमें मुझे भाग लेने का सौभाग्य मिला, वह था ट्रांसफॉर्मिंग एजुकेशन समिट। यह विश्वास करना कठिन है कि नम्न मध्यम और उच्च आय वाले देश के लगभग 2/3 बच्चे पढ़ और समझ नहीं सकते। व्यवस्था ने उन्हें विफल कर दिया है।’’

‘‘जैसा कि अमेरिकी शिक्षा सचिव सेककाडोर्ना ने इसे बहुत स्पष्ट रूप से कहा है, शिक्षा सबके लिए जरूरी है, लेकिन अगर हम वही करते रहे जो हमने किया है, तो हमें वही मिलेगा जो हमें मिला है। हम हर बच्चे को यह मूल जन्मसिद्ध अधिकार देते हैं, एक सीखने और अपनी पूरी क्षमता (एसआईसी) तक पहुंचने का समान मौका।’’ अभिनेत्री ने गोर्मन के शब्दों के साथ समाप्त किया, जिसके बाद उन्होंने मलाला के साथ तस्वीर खिंचवाई। और जैसा कि अविश्वसनीय अमांडा गोर्मन ने कहा, ‘‘मैं आपको हमारे भाग्य को आकार देने की चुनौती देता हूं। सबसे बढ़कर, मैं आपको अच्छा करने का चुनौती देता हूं, ताकि दुनिया महान हो सके।’’