MDU में फायरिंग मामले में फरार आरोपियों की CIA ने किया गिरफ्तार

Spread the News

हरियाणा : रोहतक में एमडीयू फायरिंग केस में फरार आरोपियों को सीआईए ने गिरफ्तार कर लिया है। जिन्हे बुधवार को अदालत में पेश किया जाएगा। बता दें कि तीन सितंबर को विवि के अंदर फायरिंग हुई थी, जिसमें चार युवक घायल हुए थे। आरोपी अमित व दीपक वारदात को अंजाम देकर फरार हो गए थे, जिन्हे सीआईए ने दबोच लिया है।

सीआईए प्रथम प्रभारी एसआई अनेश ने पूछताछ कर बताया कि विजय निवासी रिठाल गांव व दीपक निवासी खेड़ी महम ने मिलकर कोचिंग सेंटर खोला था। लेकिन पैसे के लेनदेन को लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया। लेनदेन के विवाद को सुलझाने के लिए दीपक ने 3 सितंबर को एमडीयू के अंदर लाइब्रेरी के नजदीक विजय को कॉल करके बुलाया । जब विजय वहां पहुंचा तो दीपक ने विजय को एक गाड़ी में बैठा लिया। जिसमे बलियाना निवासी अमित उर्फ मोनू, विकास फौजी व दीपक बैठे हुए थे। उसी दौरान अमित ने विजय को कहा कि दीपक पैसे नहीं देगा। तब विजय ने तब अपने परिचित हर्ष और उसके दोस्त कुलदीप व विदित को वहां पर बुला लिया। उसी दौरान अमित उर्फ मोनू ने विजय और उसके दोस्त सुशील गोलियां चला दी। जिसके चलते सुशील के हाथ पर व कुलदीप के पैर में गोली लग गई । विजय के शोर मचाने पर दीपक व अन्य युवक भागने लगे। तब हर्ष व विदित ने दूसरी कार से उनका पीछा किया। जिस दौरान आरोपियों ने हर्ष व विदित पर भी गोलियां चला दी, जिससे वह भी घायल हो गए थे।

एसआई ने कहा कि वारदात को अंजाम देकर आरोपी हिमाचल के मणिकर्ण, कसौल, कलंगा व कुल्लू में फरारी काट कर चंडीगढ़ आ रहे थे । उसी दौरान सीआईए के एएसआई विनोद दलाल के नेतृत्व में पुलिस की टीम ने दोनों को दबोचा लिया। वारदात के अन्य आरोपी फिलहाल फरार हैं। पुलिस आरोपियों को पनाह देने के वाले आरोपी संदीप को काबू कर चुकी है।