निहंग सिंह खालसा दल ने माइनॉरिटी कमीशन के अध्यक्ष Iqbal Singh Lalpura से मुलाकात की, लंगर में जाति भेदभाव को लेकर सौंपा मांग पत्र

Spread the News

नई दिल्ली (22 सितंबर) : निहंग सिंह खालसा दल (शिरोमणि जरनैल साहिबजादा बाबा जुझार सिंह) ने राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष इकबाल सिंह लालपुरा से मुलाकात की। इस मौके पर निहंग सिंह ने लालपुरा को लंगर में जाति के आधार पर अलग-अलग पंक्तियों की जानकारी दी और इस संबंध में मांग पत्र सौंपा।

निहंग सिंहों ने बताया कि दशम पिता ने खालसा पंथ की रचना की थी ताकि जाति भेद को मिटाकर ऊंच-नीच का भेद मिटाया जा सके। लेकिन आज के समय में कुछ तथाकथित संगठन और संप्रदाय जाति और विभाजन के आधार पर दो कटोरी अमृत तैयार करते हैं। श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी की पवित्र उपस्थिति में भी लंगर की दो अलग-अलग पंक्तियाँ लाई जाती हैं जो सिख सिद्धांतों को कमजोर करती हैं और जाति विभाजन के सामाजिक कुष्ठ के साथ, सिख धर्म बदतर होता जा रहा है। उन्होंने लालपुरा से इस समस्या के समाधान के लिए ठोस प्रयास करने की मांग की। इस मौके पर मलकीत सिंह, बाबा निहाल सिंह, गुरमीत सिंह, सुरिंदर सिंह, अवतार सिंह, जगदीश सिंह, अंगरेज सिंह, जरनैल सिंह आदि बड़ी संख्या में संगठन निहंग सिंह लालपुरा से मिलने पहुंचे।

इकबाल सिंह लालपुरा, जो स्वयं एक प्रख्यात सिख विद्वान हैं, ने इस मामले को श्री अकाल तख्त साहिब जत्थेदार सिंह साहिब ज्ञानी हरप्रीत सिंह और पंजाब के मुख्य सचिव के संज्ञान में लाया। जिसमें वो सिख सिद्धांत और गुरु साहिब की आज्ञाएं “जन्हू जोति न पुच्छु जाति, अगई जाति न हे।’, ‘मानस की जात सबई एकै पचानबो..’ उल्लेख का ज़िक्र किया। उन्होंने कहा कि यह मुद्दा बहुत गंभीर है जो सिख धर्म के अस्तित्व के लिए खतरा है।

उन्होंने कहा कि दशम पिता ने पहले पांच प्रियजनों को अमृत छकाया था और उन्हें स्वयं भी अमृत छक्का था, लेकिन आज के कुछ तथाकथित सिख संगठन बाबा जीवन सिंह जी और भगत रविदास जी के वंशजों को उनके समान पंगत में में बैठा कर लंगर नहीं छकाते है। यहां तक ​​कि उनके इस्तेमाल किए हुए बर्तनों को अशुद्ध समझकर उन्हें आग आदि में फेंक कर शुद्ध करना, भेदभाव बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है और यह नानक नाम की संगत के दिलों को चोट पहुँचाता है।उन्होंने भारतीय संविधान और अन्य कानूनों का भी विवरण दिया जिसके अनुसार ये कृत्य दंडनीय हैं। उन्होंने सिंह साहब से अनुरोध किया कि सिख जगत जातिगत भेदभाव को मान्यता नहीं देता और राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने इस पर संज्ञान लिया। वह इसका पुरजोर विरोध करती हैं, इसलिए उन्होंने इस गंभीर मुद्दे पर उचित कदम उठाने की मांग की।

Exit mobile version