AIG Navjot Singh Mahal ने पंजाब में किया आतंकवादियों का भंडाफोड़, AK-56 राइफल, 2 मैगजीन और 90 जिंदा कारतूस किए बरामद

Spread the News

चंडीगढ़: पंजाब को अपराध मुक्त राज्य बनाने के लिए मुख्यमंत्री भगवंत मान द्वारा चलाए जा रहे अभियान के तहत, पंजाब पुलिस ने बड़े आतंकवादी गिरोह का भंडाफोड़ किया है। पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) पंजाब गौरव यादव ने जानकारी देते हुए बताया कि मॉड्यूल से दो लोगों की गिरफ्तारी के साथ कनाडा स्थित गैंगस्टर लखबीर सिंह उर्फ ​​लांडा और पाकिस्तान स्थित गैंगस्टर हरविंदर सिंह रिंडा द्वारा संयुक्त रूप से चलाए जा रहे आईएसआई समर्थित आतंकवादियों का भंडाफोड़ किया।

उल्लेखनीय है कि कनाडा स्थित लांडा, पाकिस्तान स्थित देसी और बब्बर खालसा इंटरनेशनल (बीकेआई) में शामिल हो गया है, जिसे गैंगस्टर हरविंदर सिंह उर्फ ​​रिंडा का करीबी माना जा रहा है और उसके आईएसआई से भी नजदीकी संबंध है। लांडा ने मोहाली में पंजाब पुलिस इंटेलिजेंस मुख्यालय पर रॉकेट प्रोपेल्ड ग्रेनेड (RPG) आतंकी हमले की साजिश रचने में अहम भूमिका निभाई थी और अमृतसर में सब-इंस्पेक्टर दिलबाग सिंह की कार के नीचे एक IED भी लगाया।

गिरफ्तार व्यक्तियों की पहचान ग्राम जोगेवाल, फिरोजपुर निवासी बलजीत सिंह मल्ली (25) और ग्राम बुह गुजरां, फिरोजपुर के गुरबख्श सिंह उर्फ ​​गोरा संधू के रूप में हुई है। इस संबंध में जानकारी देते हुए डीजीपी गौरव यादव ने बताया कि एआईजी काउंटर इंटेलिजेंस जालंधर नवजोत सिंह महल के नेतृत्व में एक खुफिया अभियान के दौरान पुलिस की टीमों ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने गुरबख्श सिंह के गांव से 2 मैगजीन, 90 जिंदा कारतूस और 2 खोल के साथ एक आधुनिक एके-56 राइफल भी बरामद की है।

उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच में पता चला है कि बलजीत इटली निवासी हरप्रीत सिंह उर्फ ​​हैप्पी संघेरा के संपर्क में था और उसके निर्देश पर बलजीत ने जुलाई 2022 में गांव सूडान के मखू-लोहियां रोड स्थित निशानदेही से हथियारों की खेप हासिल की थी। बाद में उन्होंने परीक्षण फायरिंग के बाद खेप को गुरबख्श के खेतों में छिपा दिया।

उन्होंने कहा कि यह भी पता चला है कि बलजीत कनाडा स्थित लखबीर लांडा और अर्श दल्ला सहित खतरनाक गैंगस्टरों के सीधे संपर्क में था। उन्होंने कहा कि आगे की जांच जारी है और जल्द ही और हथियारों की बरामदगी की उम्मीद है। डीजीपी ने कहा कि पंजाब पुलिस द्वारा मुख्यमंत्री भगवंत मान के निर्देश पर गैंगस्टरों के खिलाफ छेड़ी गई जंग तब तक जारी रहेगी जब तक पंजाब गैंगस्टर मुक्त राज्य नहीं बन जाता।

गौरतलब है कि आतंकियों के खिलाफ एफ.आई.आर. संख्या 29, दिनांक 22.09.2022 यूए (पी) अधिनियम की धारा 10, 13, 18 और 20 और शस्त्र अधिनियम की धारा 25 के तहत एसएसओसी अमृतसर में केज दर्ज किया है।