United Nations चार्टर का सम्मान करने वालों के साथ है भारत: विदेश मंत्री S. Jaishankar

Spread the News

संयुक्त राष्ट्रः यूक्रेन पर रूस के आक्रमण और भारत से दूरी बनाए रखने की आलोचना करते हुए भारत के विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा कि भारत ‘संयुक्त राष्ट्र चार्टर और उसके संस्थापक सिद्धांतों का सम्मान करने वालों के पक्ष में है। जयशंकर ने कहा, कि ‘यूक्रेन संघर्ष जारी है, हमसे अक्सर पूछा जाता है कि हम किसके पक्ष में हैं और हर बार हमारा जवाब सीधा और ईमानदार होता है। भारत शांति के पक्ष में है और मजबूती से रहेगा।’’ लेकिन इसमें स्पष्टता जोड़ते हुए उन्होंने कहा, ‘‘हम उस पक्ष में हैं जो संयुक्त राष्ट्र चार्टर और उसके संस्थापक सिद्धांतों का सम्मान करता है।’’

संयुक्त राष्ट्र महासभा में उनके भाषण को राजनयिकों द्वारा यूक्रेन पर भारत के सार्वजनिक रुख पर किसी भी बदलाव के लिए बारीकी से देखा गया था, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से स्पष्ट रूप से कहा था कि ‘यह युद्ध का युग नहीं है’ और दोहराया था कि वार्ता और कूटनीति के रास्ते से इसका समाधान हो सकता है। यह कहते हुए कि भारत उसके साथ है जो युद्ध को गैरकानूनी घोषित करने वाले संयुक्त राष्ट्र चार्टर का सम्मान करता है। उन्होंने भारत को उस पक्ष में रखा जो रूस का नहीं है और कूटनीतिक रूप से भारत का रुख सार्वजनिक करते हुए मास्को का नाम लेने से परहेज किया।

खाद्यान्न की कमी और युद्ध के कारण ऊर्जा की बढ़ती कीमतों से बुरी तरह प्रभावित हुए विकासशील देशों का मुद्दा उठाते हुए जयशंकर ने कहा, ‘‘हम उन लोगों के पक्ष में हैं जो अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, भले ही वे खाद्यान्न की कमी, ईंधन और उर्वरक की बढ़ती लागत से जूझ रहे हों।’’उन्होंने कहा, कि ‘इस संघर्ष का शीघ्र समाधान निकालने के लिए संयुक्त राष्ट्र के भीतर और बाहर रचनात्मक रूप से काम करना सामूहिक हित में है।’’