उथल-पुथल दुनिया में चीन लाता है मूल्यवान निश्चितता

Spread the News

पिछले सप्ताह, न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में चीनी प्रतिनिधिमंडल सबसे व्यस्त में से एक रहा था। 77वीं यूएन महासभा की आम बहम में भाषण देने के अलावा, चीन ने कई बहुपक्षीय बैठकों की मेजबानी भी की और उनमें भाग भी लिया है। साथ ही, चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने दर्जनों विदेश मंत्रियों और अंतरराष्ट्रीय संस्थानों के प्रमुखों के साथ से भी मुलाकात की। एकता को बढ़ावा देने और आम सहमति बनाने के कूटनीतिक प्रयासों की इस श्रृंखला ने वर्तमान उथल-पुथल दुनिया में मूल्यवान स्थिरता और निश्चितता पहुंचाई है।

चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने मौजूदा यूएन महासभा की आम बहम में भाषण देते हुए सारी दुनिया के सामने एक बार फिर चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा प्रस्तुत वैश्विक सुरक्षा पहल और वैश्विक विकास पहल की व्याख्या की। उन्होंने “शांति, युद्ध नहीं”, “विकास, गरीबी नहीं”, “खुलापन, बंद नहीं”, “सहयोग, टकराव नहीं”, “एकता, विभाजन नहीं” और “निष्पक्षता, बदमाशी नहीं” वाले छह प्रस्ताव रखे, उन्होंने स्पष्टतः श्रृंखलाबद्ध प्रमुख अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चीन की सैद्धांतिक स्थिति को व्यक्त किया और दुनिया के अधिकांश देशों की आम आकांक्षा व्यक्त की। मौजूदा यूएन महासभा के दौरान चीनी विदेश मंत्री ने क्रमशः रूसी और यूक्रेनी विदेश मंत्री से मुलाकात की और यूक्रेन मुद्दे पर सुरक्षा परिषद के विदेश मंत्रियों के सम्मेलन में भाग लिया। चीन का प्रस्ताव है कि सभी देशों की संप्रभुता और प्रादेशिक अखंडता का सम्मान किया जाना चाहिए, संयुक्त राष्ट्र चार्टर के उद्देश्यों और सिद्धांतों का पालन किया जाना चाहिए, सभी पक्षों की वैध सुरक्षा चिंताओं को महत्व दिया जाना चाहिए, शांतिपूर्ण तरीके से संकट को हल करने के सभी प्रयासों का समर्थन किया जाना चाहिए। चीन ने संबंधित पक्षों से संवाद को बहाल करने, एकतरफा प्रतिबंध का दुरुपयोग न करने की अपील की।

यूक्रेन के विदेश मंत्री ने कहा कि यूक्रेन चीन के अंतरराष्ट्रीय स्थान और महत्वपूर्ण प्रभाव को महत्व देता है, और चीन द्वारा मौजूदा संकट को कम करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने की उम्मीद करता है। यह एक तरफ से दिखाता है कि शांति और बातचीत के लिए चीन के प्रयासों ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय की समझ और समर्थन हासिल किया है।इसके साथ ही, वैश्विक विकास को बढ़ावा देने में चीन ने भी महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। चीन के तत्वावधान में “वैश्विक विकास पहल के मित्र समूह” की मंत्री स्तरीय बैठक सफलतापूर्वक आयोजित की गई। करीब 10 अंतरराष्ट्रीय संगठनों के प्रमुखों और 60 देशों के उच्च स्तरीय प्रतिनिधियों ने भाग लिया, जिनमें 40 देशों के विदेश मंत्री शामिल थे। चीन ने बैठक में घोषणा की कि वह संयुक्त राष्ट्र 2030 एजेंडा को लागू करने के लिए सात प्रमुख कदम उठाएगा, जो गरीबी में कमी, खाद्य सुरक्षा, औद्योगीकरण, स्वच्छ ऊर्जा, डिजिटल शिक्षा आदि क्षेत्रों से संबंधित हैं, जिन्हें सभी पक्षों से उच्च प्रशंसा मिली है।

77वीं यूएन महासभा के अध्यक्ष कोरोसी क्साबा ने कहा कि चीन संयुक्त राष्ट्र महासभा के मामलों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, और राष्ट्रपति शी चिनफिंग द्वारा पेश की गई महत्वपूर्ण पहल वर्तमान चुनौतियों को प्रभावी ढंग से सामना करने के लिए समाधान प्रदान करती है। वहीं, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने बहुपक्षवाद का समर्थन करने, अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और सतत विकास को बढ़ावा देने में चीन की दीर्घकालिक महत्वपूर्ण भूमिका की सराहना की और कहा कि संयुक्त राष्ट्र वैश्विक विकास पहल का समर्थन करता है और मानता है कि इससे सतत विकास के लिए 2030 एजेंडा की प्रगति में तेजी लाने में मदद मिलेगी। इस उथल-पुथल दुनिया में चीन बेशकीमती निश्चितता पहुंचा रहा है। चीनी मित्र का दायरा बड़े से बड़ा हो रहा है, जो वैश्विक शांति और विकास को बढ़ावा देने की मजबूत शक्ति बन रहा है।

(साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)