राष्ट्र निर्माण में युवाओं को ऊर्जा का सदुपयोग करना होगा: अनुराग ठाकुर

Spread the News

धर्मशाला : नेहरू युवा केंद्र धर्मशाला के सौजन्य से राजकीय उत्कृष्ट महाविद्यालय ढलियारा में जिला स्तरीय युवा उत्सव का आयोजन किया गया जिसमें केन्द्रीय सूचना प्रसारण, युवा मामले एवं खेल मंत्री अनुराग ठाकुर ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। युवा उत्सव में राज्य निदेशक नेहरू युवा केंद्र संगठन सैमसन मसीह के नेतृत्व में छह विभिन्न प्रतियोगिताएं जिला स्तर पर करवाई गई जिसमें चित्रकला, फोटोग्राफी, लोकनृत्य युवा संवाद भाषण एवं कविता पाठ कार्यक्रम का आगाज अनुराग ठाकुर ने ज्योति प्रज्वलन कर किया।

अपने अभिभाषण में उन्होंने युवाओं को संबोधित करते हुए कहा कि संपूर्ण राष्ट्र में युवाओं को राष्ट्र निर्माण में उनकी ऊर्जा का सदुपयोग करना होगा ताकि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा राष्ट्र को दिए गए पांच प्रणो के माध्यम से देश को बुलंदियों के शिखर पर ले जा सके। उन्होंने बताया कि जीवन कौशल पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए और अनुराग ठाकुर ने प्रधानमंत्री के पांच प्रणो से युवाओं को अवगत करवाया जिसमें से मुख्य हैं, विकसित भारत, गुलामी की हार सोच से, मुक्ति विरासत पर गर्व, एकता और एकजुटता, नागरिकों के कर्तव्य, प्रधानमंत्री ने भारत को गत वर्षो में भारत की अर्थव्यवस्था को पांचवें पायदान पर पहुंचाया । प्रधानमंत्री ने उज्ज्वला योजना के तहत लोगों को दो करोड़ गैस सिलैंडर आबंटित किए पानी बचाओ, बिजली बचाओ डीजल और पैट्रोल को कैसे हम भारत के 130 करोड़ लोग एक-एक चीजों की बचत कर सकते हैं।

मंच संचालन जिला युवा अधिकारी नेहरू युवा केंद्र धर्मशाला नरेश शर्मा द्वारा किया गया कार्यक्र म में जिला के सभी खंडों के युवा मंडल महिला मंडल व अन्य युवाओं सहित लगभग आठ 800 लोग उपस्थित रहे उसके पश्चात विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया जिसमें फोटोग्राफी में 30 कविता में 30 चित्रकला में 30 युवा संवाद एवं भाषण में 15-15 युवाओं ने भाग लिया सांस्कृतिक कार्यक्रम में हर गांव में एक लोक नृत्य प्रस्तुत किया गया। प्रतियोगिता पेंटिंग में प्रथम रितिक, द्वितीय अंजली एवं शीतल कुमारी तृतीय नेतृत्व फोटोग्राफी में प्रथम पार्श, द्वितीय अनु कुमारी एवं तृतीय केशव, कविता में प्रथम आवृति तथा द्वितीय चंचल एवं प्रीति तृतीय रहीं। युवा संवाद मे प्रथम रेशव जस्वाल, द्वितीय शिल्पा कुमारी ने तथा भाषण प्रतियोगिता में प्रथम कविता द्वितीय अमन तृतीय आदर्श ने स्थान प्राप्त किया।