राहु दोष को दूर करने के लिए धारण करें गोमेद रत्न, मिलेंगे चमत्कारी लाभ

Spread the News

हर व्यक्ति चाहता है की उसका जीवन अच्छा और सुखी हो। इसके लिए वह बहुत कुछ करते है लेकिन बहुत बार मेहनत करने के बाद भी जीवन से मुश्किलें ख़त्म नहीं होती। ज्योतिष शास्त्र में इन उतार-चढ़ाव के लिए कई तरह के उपाय बताए जाते है। उनमे से एक है रत्नों का धारण करना। माना जाता है जी रत्नो का धारण करने से हमारी बहुत से समस्या समाप्त हो जाती है। लेकिन अगर इन रत्नों को हम अपनी राशि के अनुसार धारण करते है तो हमें इनका अधिक लाभ मिलता है। आज हम गोमेद रत्न को धारण करने के लाभ के बारे में आपको बताने जा रहे है। तो आइए जानते है:

राहु के इस घर में होने पर धारण करें गोमेद
यदि आपकी कुंडली के पहले, चौथे, सातवें या दसवें भाव में राहु ग्रह है तो आप गोमेद धारण कर सकते हैं. इसके अलावा यदि राहु कुंडली के छठे या आठवें भाव या फिर लग्न भाव में मौजूद है तो भी गोमेद धारण किया जा सकता है. इससे आपको अच्छे परिणाम देखने को मिलेंगे.

इस क्षेत्र के जातक धारण कर सकते हैं गोमेद
राजनीति, वकालत या न्यायिक क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों को तरक्की पाने के लिए गोमेद धारण करने की सलाह दी जाती है. इसके अलावा यदि किसी व्यक्ति की राशि में या लग्न मिथुन, तुला, कुंभ या वृषभ है तो ऐसे लोगों को गोमेद धारण करना लाभप्रद रहता हैं.

मकर राशि के लिए लाभदायक
राहु को मकर राशि का स्वामी बताया गया है, इसलिए मकर राशि के जातक राहु की स्थिति को मजबूत करने और उसके दुष्प्रभाव को कम करने के लिए गोमेद धारण कर सकते हैं.

इन ग्रहों की युति में धारण करें गोमेद
ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में शुक्र, बुध के साथ राहु ग्रह की युति है तो ऐसे में इस राशि के जातक गोमेद धारण कर सकते हैं. ये उनके लिए लाभप्रद होता है.