Patanjali की साईट पर जाने से पहले देख ले ये खबर, किस तरह Fake Website बनाकर डायबिटीज मरीज से लूटे लाखाें रुपए

Spread the News

लखनऊः उत्तर प्रदेश के लखनऊ के एक 18 वर्षीय इंजीनियरिंग छात्र से बाबा रामदेव के पतंजलि योगपीठ के नाम पर फर्जी वेबसाइट चलाने वाले साइबर ठगों ने 4.2 लाख रुपए की ठगी की है। बताया जा रहा है कि इंजीनियरिंग छात्र डायबिटीज का मरीज था। ठगों ने हरिद्वार में अपने आश्रम में 15 दिन के आयुर्वेदिक उपचार पैकेज की पेशकश की थी। पीड़ित रजत गिरि ने धोखाधड़ी और बेईमानी के आरोप में एफआईआर दर्ज कराई है। गिरी ने कहा कि उन्हें कुछ महीने पहले डायबिटीज का पता चला था। उन्होंने कई डॉक्टरों से मुलाकात की, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। ऐसे में उन्होंने आयुर्वेद उपचार कराने का फैसला किया और इंटरनेट पर पतंजलि योगपीठ की वेबसाइट लॉग-इन की।

उन्होंने कहा, कि मैंने वेबसाइट पर मौजूद दिए गए नंबरों पर कॉल किया। उन्होंने कई पैकेज दिए। मैंने 75,000 रुपए वाला पैकेज, जो 15 दिनों के लिए था, उसे चुना और 10 जुलाई को भुगतान किया। मुझे 5-20 अगस्त तक बुकिंग की पुष्टि करने वाली एक डिजिटल रसीद मिली। दस्तावेज वास्तविक लग रहे थे, क्योंकि उसमें बाबा रामदेव और उनके सहयोगी बाल कृष्ण की तस्वीरें थीं। हालांकि, 13 जुलाई को, उन्हें एक और कॉल आया, जिसमें उन्होंने पूरे शरीर की जांच और स्वास्थ्य बीमा के लिए भुगतान करने के लिए कहा। इसके बाद उन्होंने 20 जुलाई तक कई किश्तों में कुल 4.3 लाख रुपए का भुगतान किया।

कुछ दिनों बाद, उन्हें एक और फोन आया, जिसने कहा कि पहली किस्त का लेनदेन किसी तकनीकी कारण से विफल हो गया है और उसे फिर से भुगतान करने के लिए कहा गया। साथ ही, यह वादा किया गया कि उन्हें पिछली किस्त जल्द ही वापस कर दी जाएगी। उन्होंने कहा, कि मैंने उनसे कहा कि मैं रिफंड मिलने के बाद ही भुगतान करूंगा, लेकिन पैसे वापस नहीं आए। मैं 19 सितंबर तक उन्हें फोन करता रहा और तब से उनके फोन बंद हैं। मैंने फिर पतंजलि योगपीठ में कस्टमर केयर को कॉल किया, तो पता चला कि वेबसाइट फर्जी है।