सिरसा के डबवाली शहर ने देशभर में हासिल की 27वीं स्वच्छता रैंक

Spread the News

हरियाणा : सिरसा के डबवाली शहर ने देशभर में 27वीं रैंक हासिल की है। डबवाली नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी सुरेंद्र कुमार ने बताया कि डबवाली शहर पिछले चार सालों से स्वच्छता सर्वेक्षण में बेहतरीन प्रदर्शन करता आ रहा है। विगत चार सालों से स्वच्छता रैंकिंग 737, 65, 51 व इस साल 27 रैंक रही है। मंडी डबवाली ने भारत स्तर पर 50 हजार से एक लाख जनसंख्या वाले शहरों में 27वीं व हरियाणा स्तर पर चौथी रैंकिंग हासिल कर सिरसा जिले का नाम देशभर में रोशन किया है। बशर्ते केंद्र सरकार ने अपने पैमाने पर डबवाली को स्वच्छता का ताज पहना दिया, मगर स्वच्छता को लेकर धरातल पर दृष्टि दौड़ाएं तो हकीकत इससे कोसों दूर है।

नगर परिषद मंडी डबवाली के कार्यकारी अधिकारी सुरेंद्र कुमार ने जारी प्रेस विज्ञप्ति में दावा किया है कि पब्लिक टॉयलेटस की सफाई, सड़कों गलियों की सफाई, पार्कों की सफाई, डंपग पॉइंट्स की सफाई इत्यादी पर विशेष ध्यान दिया गया। साल भर लगातार स्वच्छता संबंधित विभिन्न गतिविधियों जिसमें लोगों को स्वच्छता के लिए जागरुक करना, सक्षम युवाओं की मदद से डोर टू डोर जाकर गीला सुखा कूड़ा घर से अलग-अलग करके देने के लिए प्रेरित करना, खुले में शौच न जाना आदि गतिविधियां शामिल रही।

डबवाली फॉयर विक्टिम एसोसिएशन के अध्यक्ष एवं प्रमुख समाजसेवी विनोद बंसल ने इस रैंकिंग पर हैरानी व्यक्त करते हुए कहा कि स्वच्छता के सर्वे पूर्व नियोजित कार्यक्रम पर आधारित होते हैं। अगर सरकार या किसी एजेंसी ने सर्वे करना है तो औचक निरीक्षण करे ताकि हकीकत सामने आ सके। उन्होंने बताया कि शहर में शौचालय काम नहीं कर रहे, जिससे लोग खुले में गलियों में शौच करने को मजबूर हैं। बस अड्डा,खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी कार्यालय व गलियों में गंदगी के ढेर ले हैं। उन्होंने बताया कि रामबाग के पास कूड़े के लगे बड़े ढ़ेर से फैल रही बदबू व बीमारियों को लेकर उन्होंने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल का दरवाजा खटखटाया तो नगरपरिषद ने आनन फानन में 30 हजार रुपयों का कूड़ा उठाने का टेंडर दर्शा कर ट्रिब्यूनल को गुमराह किया। वहां आज भी कूड़ा बरकरार है। उन्होंने इस सर्वे को पूर्णत्या फर्जी बताते हुए इस सर्वें में शामिल अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही की केंद्र सरकार, राज्य सरकार व जिला प्रशासन से मांग की है।