राज्य कमिश्नर राजकुमार मक्कड़ ने दिव्यांग जनों को किया संबोधित, दिव्यांग भी बाकी बच्चों की तरह भगवान की अनमोल देन

Spread the News

सिरसा : दिव्यांगजन के राज्य कमिश्नर राजकुमार मक्कड़ ने सिरसा में सहायक उपकरण वितरण एवं नि:शुल्क मैडिकल चैकअप कैंप में दिव्यांग जनों को संबोधित किया। मक्कड़ ने कहा कि दिव्यांग भी बाकी बच्चों की तरह भगवान के अनमोल देन है, ऐसे लोगों को मुख्यधारा से जोडऩे के लिए हमें अपनी सोच बदलनी होगी। इसके साथ-साथ दिव्यांगों का मनोबल बढ़ाते हुए सकारात्मक व्यवहार करें और यह भी ध्यान रखें कि उनके साथ किसी प्रकार का भेदभाव न हो।

इससे पहले आयुक्त राज कुमार मक्कड़ ने दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। आयुक्त मक्कड़ ने कहा कि आमजन दिव्यांग व्यक्तियों से आसानी से बातचीत कर सके और विचारों का आसानी से आदान प्रदान हो, इसके मद्देनजर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांकेतिक भाषा के संबंध में 10 हजार शब्दकोश की एक डिक्शनरी भी लांच की थी। उन्होंने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार द्वारा दिव्यांगों के हितार्थ गंभीरता से कार्य करते हुए योजनाएं क्रियान्वित की जा रही है। सरकार का प्रयास है कि दिव्यांगों को दी जाने वाली मूलभूत सुविधाओं में किसी प्रकार की कमी न हो। दिव्यांग व्यक्तियों को यदि कोई व्यक्ति अपमान या भेदभाव करता है तो सजा के साथ-साथ जुर्माने का भी प्रावधान है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा स्कूल जाने में असमर्थ जीरो से 18 वर्ष तक के दिव्यांग बच्चों को 1900 रुपये व 18 वर्ष से अधिक आयु के दिव्यांग व्यक्तियों को 2500 रुपये की मासिक वित्तीय सहायता दी जा रही है। उन्होंने सरकारी-गैर सरकारी संगठनों और समाज सेवा के क्षेत्र में कार्य करने वाले लोगों से अपील की है कि वे दिव्यांग, बधिर, वंचित व जरुरतमंद लोगों के कल्याण के लिए आगे आएं। उन्होंने कहा कि भारतीय संस्कृति और मूल्य प्रणाली में सभी मनुष्यों के लिए जाति, वर्ग व धर्म के लोगों के लिए सुखी जीवन व्यतीत करने पर जोर दिया गया है। इसलिए हम सब की जिम्मेदारी बनती है कि भारतीय संस्कृति के अनुरुप कार्य करते हुए इन लोगों के कल्याण के लिए आगे आएं। कार्यक्रम में जिला रेडक्रॉस सोसायटी द्वारा आमजन को आर्गेनिक किट व किचन सैट भी वितरित किए। इस अवसर पर पूर्व विधायक बलकौर सिंह,भाजपा कार्यालय सचिव महावीर गोदारा, सुरेंद्र आर्य,जिला समाज कल्याण अधिकारी नरेश बतरा, उप सिविल सर्जन डा. बुधराम भी मौजूद थे।