छोंगयांग महोत्सव (दोहरा नौवां महोत्सव) की कहानी

Spread the News

छोंगयांग महोत्सव यानी दोहरा नौवां महोत्सव चीनी चंद्र कैलेंडर के नौवें महीने के नौवें दिन में पड़ता है। छोंगयांग महोत्सव एक पारंपरिक चीनी अवकाश है, जिसका चीन में पूर्वी हान राजवंश (25 ईस्वी से पहले) से पहले के लेखन में उल्लेख किया गया है। आई चिंग के अनुसार दुनिया भर सभी चीज़ों को यिन और यांग की तरह विभाजित किया जाता है। नौ एक यांग संख्या है और इसके अर्थ में शुभ तिथि शामिल है। इसीलिए चीनी चंद्र कैलेंडर के नौवें महीने के नौवें दिन यानी डबल नौ में बहुत अधिक यांग शामिल हैं और इस प्रकार यह संभावित रूप से बहुत शुभ तिथि है। इसलिए इस दिन को दोहरा नौवां महोत्सव (डबल यांग फेस्टिवल) भी कहा जाता है ।

प्राचीन चीन में, छोंगयांग महोत्सव में लोगों को पर्वतारोहण व प्रार्थना करने, देवताओं और पूर्वजों की पूजा करने, दावत का आयोजन करने और लंबी उम्र के लिए प्रार्थना करने आदि रीति लोकप्रिय थी। इसे वर्तमान में पारित कर दिया गया है और बुज़ुर्गों के लिए सम्मान आदि अर्थ जोड़े गए हैं। अब छोंगयांग महोत्सव के दो प्रमुख विषय पर्वतारोहण करके शरद् ऋतु की सराहना करना और बुज़ुर्गों के प्रति आभार जताना है। इसलिए छोंगयांग महोत्सव को पर्वतारोहण महोत्सव, झुयू यानी डॉगवुड (Cornus officinalis) महोत्सव और गुलदाउदी महोत्सव के नाम पर भी जाना जाता है। वर्ष 2005 छोंगयांग महोत्सव को चीनी राष्ट्रीय अमूर्त सांस्कृतिक विरासत सूची के पहले बैच में सूचीबद्ध किया गया। वर्ष 2012 संशोधित बुजुर्गों के अधिकारों और हितों के संरक्षण पर चीनी कानून में यह निर्धारित है कि चीनी चंद्र कैलेंडर के नौवें महीने का नौवां दिन वृद्धावस्था दिवस है। छोंगयांग महोत्सव हान जाति का एक पारंपरिक त्योहार है, जो विभिन्न प्रकार के लोक रीति-रिवाजों को मिलाकर बनाया गया है। इसमें समृद्ध सांस्कृतिक अर्थ शामिल हैं। छोंगयांग महोत्सव मनाने के लिये लोग दृश्यों का आनंद लेने के लिए यात्रा करना, ऊंचे पहाड़ों पर चढ़ाई करके अनदेखी करना, गुलदाउदी का आनंद उठाना, डॉगवुड पहनना, छोंगयांग केक खाना, गुलदाउदी से बने शराब पीना आदि गतिविधि करते हैं।

हर छोंगयांग महोत्सव चीन में मध्य शरद ऋतु (मध्य पतझड़) की अवधि में है। इसलिए लोगों के लिए छोंगयांग महोत्सव पर पहाड़ों पर चढ़ने के लिए यह सबसे उपयुक्त मौसम है। थांग राजवंश से चीन में छोंगयांग महोत्सव पर डॉगवुड पहनने और बालों में गुलदाउदी लगाने की रीति लोकप्रिय बनी। डॉगवुड की खुशबू बहुत तेज होती है, पारंपरिक चीनी औषधि के अनुसार इसमें कीड़ों को भगाने और शरीर से नमी-बुराई को दूर करने का कार्य भी है। गुलदाउदी और डॉगवुड दोनों को सफाई के गुण माना जाता है और अन्य अवसरों पर घरों को बाहर निकालने और बीमारियों को ठीक करने के लिए उपयोग किया जाता है। पुराने चीन में लोगों को लगता था कि चीनी चंद्र कैलेंडर के नौवें महीने का नौवें दिन यानी डबल नौ दुखों से भरे दिन है। छोंगयांग महोत्सव पर लोग लोग बुरी आत्माओं को दूर भगाने और अच्छे भाग्य की तलाश के लिए डॉगवुड
पहनना पसंद करते हैं। चीनी भाषा में केक और ऊँचा के उच्चारण सब “काओ” हैं। उत्सव के भोजन के रूप में छोंगयांग केक मूल रूप से शरद ऋतु के अनाज की भरपूर फसल का जश्न मनाने और नए अनाज का स्वाद लेने के लिए था।

बाद में बेहतर जीवन प्राप्त की प्रार्थना करने के लिये लोगों ने उच्च चढ़ाई करने और छोंगयांग केक खाने का आरंभ किया है। प्राचीन चीनी रीति-रिवाजों में, गुलदाउदी दीर्घायु का प्रतीक है। छोंगयांग महोत्सव पर हमेशा से गुलदाउदी की सराहना करने का रिवाज रहा है। इसलिए इसे प्राचीन काल से गुलदाउदी महोत्सव के नाम पर भी कहा जाता है। चीनी चंद्र कैलेंडर के नौवें महीने को आम तौर पर गुलदाउदी महीने के रूप में भी जाना जाता है। छोंगयांग
महोत्सव पर पूरे चीन में गुलदाउदी समारोह आयोजित हैं और लोग इनमें भाग करते और गुलदाउदी की सराहना करते हैं। तीन राज्य राजवंश के बाद से डबल छोंगयांग महोत्सव पर शराब पीना, गुलदाउदी की सराहना करना और कविताओं की रचना करना फैशनेबल बना।

(साभार – चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)