MLA Pahra की बढ़ सकती है मुश्किलें, Vigilance ने विधायक सहित करीबियों के बैंक खातों की मांगी डिटेल

Spread the News

गुरदासपुर : सत्ता में सरकार बलते ही विजीलेंस विभाग हरकत में आ गया है। पुरानी सरकार के कई मंत्री, विधायक और पुरानी सरकार के चहेते सरकारी अधिकारी भी विजीलेंस की रडार पर आए और इनमें से कईयों के खिलाफ कार्रवाई भी चल रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार विजिलेंस ने गुरदासपुर विधायक के बारे में जानकारी एकत्र की है। इस संबंध में एक पत्र वायरल हो रहा है, जो कि विजिलेंस के डीएसपी निर्मल सिंह द्वारा लीड बैंक के मैनेजर को लिखा गया है। हालांकि डीएसपी निर्मल सिंह इसे सीक्रेट मेटर कहकर टालने का प्रयास करते है, मगर इस पत्र को फेक भी नही कहते, मगर विजिलेंस के एसएसपी वरिंदर कुमार ने इसकी पुष्टि कर दी है कि यह पत्र फेक नहीं है, मगर साथ ही वह ये भी कहते है कि सीक्रेट होने के बावजूद इसे किसी बैंक कर्मचारी द्वारा लीक कर दिया गया है, जिसकी जांच की जाएगी।

बता दें कि 3 अक्तूबर को विजिलेंस विभाग गुरदासपुर के डीएसपी निर्मल सिंह द्वारा पत्र नंबर 1326 लीड बैंक के मेनेजर के नाम लिखा गया। जिसमें गुरदासपुर के विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा, उनके भाई बलजीत सिंह पाहड़ा, जो कि नगर कौंसिल के प्रधान भी है, पिता गुरमीत सिंह पहाड़ा जो कि कांग्रेस की पंजाब कार्यकारिणी के सदस्य और लेबरसैल पंजाब के चेयरमैन रहे है, के अलावा पत्नी और अन्य रिश्तेदारों की बैंक खातों की डिटेल मांगी गई है। पत्र में करीब 8 नामों का जिक्र किया गया है और यह सभी पाहड़ा के नजदीकी रिश्तेदार है, जिससे साफ जाहिर है कि पाहड़ा के खिलाफ विजिलेंस विभाग द्वारा विभागी जांच शुरु कर दी गई है और या फिर जल्द ही की जा रही है।

जब इस पत्र के बारे में पत्र लिखने वाले विजीलेंस विभाग के डीएसपी निर्मल सिंह के साथ बातचीत की गई तो उन्होंने इंकार भी नहीं किया कि वह पत्र उन्होंने लिखा है, मगर साथ ही यह कहने लगे कि यह सीक्रेट मेटर है, जिसके बारे में वह कुछ नहीं बता सकते। इसके बारे में जब एसएसपी विजीलेंस वरिंदर सिंह के साथ बातचीत की गई तो उन्होंने इस पत्र की विभागीय सच्चाई की पुष्टि करते हुए कहा कि ये पत्र किसी बैंक ने लीक आऊट कर दिया है, जिसकी जांच होगी। गौरतलब है कि इस पत्र के नीचे पीएनबी बैंक के एक कंप्यूटर का नंबर आ रहा है। जिससे पता चलता है कि पत्र पीएनबी बैंक के कंप्यूटर से फोटो खींचकर किसी कर्मचारी द्वारा लीक किया गया है।