पंजाब सरकार की स्ट्रीट वेंडरों को बड़ी सौगात, लोन पर लगने वाली स्टांप ड्यूटी की माफ

Spread the News

पंजाब सरकार द्वारा स्ट्रीट वेंडरों को वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए सरकार द्वारा प्रधानमंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्म-निर्भर निधि योजना (पीएम स्वानिधि) लागू की गई है। जिसके तहत पहले, दूसरे और तीसरे ऋण के तहत क्रमशः 10,000/- रुपये, 20,000 रुपये और 50,000 रुपये का ऋण सब्सिडी के साथ प्रदान किया जाता है। हालांकि, ये ऋण प्रति ऋण 4 प्रतिशत (लगभग 500/- रुपये) तक की स्टांप ड्यूटी लगती थी, जिसका भुगतान स्ट्रीट वेंडरों को करना पड़ता था, जिसके परिणामस्वरूप उन पर वित्तीय बोझ पड़ता था। जिससे कारण बहुत सरे स्ट्रीट वेंडर इस योजना का लाभ लेने के लिए आगे नहीं आ रहे थे।

इसके अलावा सरकार द्वारा इस योजना के तहत लाभान्वित होने वाले स्ट्रीट वेंडरों एवं उनके परिवार के सदस्यों के लिए भी प्रयास किये गये हैं, जिसके तहत उनके परिवार के सदस्यों सहित स्ट्रीट वेंडरों की जानकारी एकत्रित कर सरकार की कल्याणकारी योजनाओं एवं लाभों से जोड़ते हुए अलग अलग योजनाओं का लाभ दिया जा रहा है, लेकिन स्ट्रीट वेंडरों इस योजना में ऋण लेने के लिए स्टांप ड्यूटी पर लगने वाली फीस के वित्तीय बोझ के कारण स्ट्रीट वेंडर इस योजना में रुचि नहीं दिखा रहे थे।

इस मुद्दे को लेकर राज्य सरकार ने उनके हित में बड़ी पहल करते हुए स्ट्रीट वेंडरों पर आर्थिक बोझ कम करते हुए तारीख 31.08.2022 को 50,000/-रुपये तक के कर्ज पर स्टांप ड्यूटी माफ कर दिया है। जिससे स्ट्रीट वेंडरों इस योजना का लाभ लेने के लिए आगे आएंगे, जिससे उन्हें अपने व्यवसाय के विस्तार के लिए आर्थिक सहायता भी मिलेगी। इस योजना के तहत स्ट्रीट वेंडरों को डिजिटल माध्यम से अपना व्यवसाय करने पर वित्तीय लाभ भी दिया जा रहा है। इस योजना का लाभ लेने के बाद स्तर के विक्रेताओं और उनके परिवार के सदस्यों को प्रधानमंत्री सुरक्षा बीमा योजना, जीवन ज्योति योजना, जन धन योजना, एक देश एक राशन कार्ड, शर्म योग मंडन योजना, लाभ जननी सुरक्षा योजना और मातृ वंदना योजना जैसी कल्याणकारी योजनाओं के संयोजन में दिए जाएंगे।