विश्व कपास दिवस पर विशेष : वैश्विक कपास उद्योग के स्वस्थ विकास के लिये चीन का योगदान

Spread the News

कपड़ा मनुष्य की तीन मूलभूत आवश्यकताओं में से एक है, और कपड़ा बनाने के लिए कपास बहुत ही जरूरी है। कपास का एक बहुत ही लंबा इतिहास है जिसका पता इंसानों की शुरुआत से लगाया जा सकता है, जब वे कपड़े पहनना जानते थे। भले ही फैशन के दौर में अब फैब्रिक की कई विविधताएं शामिल हो चुकी हैं लेकिन टिकाऊ, फैशनेबल की श्रेणी में आज भी कपास ही पहले स्थान पर है।

दरअसल, कपड़ा भले ही जरूरी आवश्यकताओं में शामिल है,लेकिन कपास उद्योग को उस तरह का महत्व नहीं दिया जाता जिस तरह उसे मिलना चाहिए। कपास उद्योग के महत्व और इस क्षेत्र में मौजूद समस्याओं को ध्यान में रखते हुए, चार देशों: बेनिन, बुर्किना फासो, चाड और माली की पहल में, वर्ष 2019 से हर साल 7 अक्टूबर को दुनिया भर में विश्व कपास दिवस के रूप में मनाया जाने लगा है। इस दिवस का मुख्य उद्देश्य कपास के उत्पादन, रोजगार, जोखिम और बदलावों को मान्यता देना है।

तब से, दुनिया भर के कई देश हर साल 7 अक्टूबर को, यानी विश्व कपास दिवस के अवसर पर संबंधित गतिविधियों का आयोजन करते हैं, जैसे कि विभिन्न देशों में कपास और फ़ीचर्ड टेक्सटाइलों की प्रदर्शनी, वैश्विक कपास उद्योग के विकास की स्थिति और इसके सामने मौजूद चुनौतियों एवं समस्याओं के बारे में विशेष सम्मेलन और संगोष्ठियों का आयोजन। जिनसे लोगों में कपास के कपड़ों के प्रति जागरूकता पैदा करने के साथ-साथ संबंधित क्षेत्रों में कपास उद्योग के विकास में मौजूद समस्याओं पर ज़्यादा ध्यान दिया जा सकेगा, ताकि विश्व कपास उद्योग के स्वस्थ विकास को सुनिश्चित किया जा सके।

दूसरी तरफ़ विश्व कपास दिवस विश्व भर में कपास अर्थव्यवस्थाओं के सामने मौजूद चुनौतियों पर प्रकाश डालने का काम कर सकता है क्योंकि कपास विश्व भर में कम विकसित, विकासशील तथा विकसित अर्थव्यवस्थाओं हेतु अहम है। इधर यदि हम चीन के बारे में बात करें, तो भारत की तरह चीन एक ऐसा देश भी है जो कृषि प्रधान देश है। साथ ही कपास चीन में प्रमुख कृषि उत्पादों में से एक है, जो राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था और लोगों की आजीविका से संबंधित है। नए चीन की स्थापना के बाद से, चीन में कपास उद्योग के विकास में बड़ी सफलता मिली है। विशेष रूप से हाल के करीब बीस वर्षों में, चीन के कपास उद्योग में तेजी से विकास होने के साथ दुनिया से भी निकट से जुड़े हुए हैं। हाल के वर्षों में, कपास उत्पादन, खपत और टेक्सटाइलों की कपड़े के निर्यात, इन सभी इलाकों में चीन दुनिया में सबसे आगे स्थान पर रहा है।

दुनिया के सबसे बड़े कपास उपभोक्ता और आयातक देश के रूप में, चीन में 2.7 करोड़ से अधिक किसान कपास से संबंधित काम कर रहे हैं। ऐसा कहा जा सकता है कि कपास उद्योग चीन की अर्थव्यवस्था के लिये बहुत ही महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, चीन ने कपास उत्पादन के स्तर और औद्योगिक प्रतिस्पर्धा में सुधार के लिये बेनिन,बुर्किना फासो,चाड और माली समेत कई कम विकसित और विकासशील देशों की मदद की है। साथ ही चीन कपास उद्योग के विकास की योजना और कपास गुणवत्ता मानकों में सुधार जैसे क्षेत्रों में इन देशों को सहायता भी दे रहा है। इसके अलावा चीन सक्रिय रूप से अंतर्राष्ट्रीय कपास व्यापार से संबंधित नियमों के निर्माण में भाग ले रहे हैं, ताकि वैश्विक कपास उद्योग के स्वस्थ विकास हो सके।
(लेखक:ल्याओ चियोंग, चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)