क्या भारत जोड़ो यात्रा में सोनिया-राहुल की तस्वीरें कांग्रेस के लिए इमोशनल ट्रंप कार्ड साबित होगा..?

Spread the News

नई दिल्लीः कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी आज भारत जरूर यात्रा में पहली बार शामिल हुई। सोनिया गांधी कर्नाटक की मांड्या जिले में सुबह 8:30 बजे भारत जोड़ो यात्रा में पदयात्रा करते नजर आई। उनकी साथ यात्रा के दौरान राहुल गांधी कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार सहित कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेता मौजूद थे। कांग्रेस अध्यक्ष के तौर पर सोनिया गांधी आखरी बार किसी बड़े कार्यक्रम में शामिल हुई है। इससे पहले सोनिया गांधी यात्रा में विश्राम कि 2 दिनों के दौरान राहुल गांधी से मिलने 3 अक्टूबर को ही कर्नाटक पहुंच गई थी।

आज का कर्नाटक में सोनिया गांधी के पदयात्रा में मौजूदगी ने कांग्रेस के कार्यकर्ताओं और नेताओं में एक नया जोश पैदा कर दिया। हालांकि सोनिया गांधी कुछ ही देर तक पैदल चली। जिसके बाद राहुल गांधी ने उनकी सेहत को देखते हुए जबरदस्ती उन्हें गाड़ी में बिठा दिया। इस सबके बीच आज पूरे दिन सोनिया गांधी और राहुल गांधी की कई सारी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल होती रही। जिसमें सबसे ज्यादा राहुल गांधी द्वारा जबरदस्ती सोनिया गांधी को गाड़ी में बिठाने का विजुअल हो या फिर राहुल गांधी द्वारा सोनिया गांधी के जूते की लेसस को बांधने की तस्वीर हो, कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने और नेताओं ने इन वीडियोस को सोशल मीडिया पर अपने अपने ट्विटर हैंडल से खूब प्रचारित और प्रसारित किया।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की वो तस्वीर भी सोशल मीडिया पर खूब चली जिसमें दशहरे के मौके पर कर्नाटक में वह एक मंदिर के में पूजा अर्चना और आरती लेते हुए दिखीं। दरअसल सोनिया गांधी पिछले एक महीने से यात्रा कर रहे राहुल गांधी से मिलने कर्नाटक पहुंच गई थी। वो दिनों तक राहुल के साथ रही। इस दौरान उन्होंने कर्नाटक कांग्रेस के नेताओं से भी मुलाकात की। जानकारी के मुताबिक सोनिया गांधी अगले एक दो दिन और कर्नाटक में ही रह सकती है। शुक्रवार को राहुल गांधी प्रेस कांफ्रेंस भी कर सकते है।

पिछले दो दशक से कांग्रेस का नेतृत्व कर रही सोनिया गांधी बतौर अध्यक्ष शायद आखरी बार कांग्रेस के किसी बड़े कार्यक्रम का हिस्सा बनी है। फिलहाल कांग्रेस के अध्यक्ष चुनने की प्रक्रिया चल रही है। मुकाबला मल्लिकार्जुन खरगे और शशि थरूर के बीच होना है और खरगे का अगला अध्यक्ष बनना लगभग तय माना जा रहा है। ऐसे मैं सोनिया गांधी का यात्रा में अध्यक्ष के रूप में शामिल होना अपने आप में ऐतिहासिक है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक सोनिया गांधी भले ही हमारी अध्यक्ष न रहे लेकिन उनसे प्रेरणा और मार्गदर्शन हमेशा मिलता रहेगा।

कर्नाटक में अगले साल विधानसभा का चुनाव होना है। कांग्रेस के लिए भारत जोड़ो यात्रा एक बड़ा मौका है जिसके जरिए वो दक्षिण के द्वार कर्नाटक में सत्ता में वापस आ सकती है। राहुल गांधी के साथ सोनिया गांधी का कर्नाटक में ही यात्रा में शामिल होना अपने आप में इस बाटवका संकेत है की कांग्रेस के लिहाज से कर्नाटक का विधानसभा चुनाव कितना महत्वपूर्ण है। बहरहाल सोनिया गांधी के साथ राहुल की तस्वीर ने आज सोशल मीडिया पर मां बेटे के रिश्ते के भावनात्मक पहलू को खूब दिखाया। अब देखना होगा की यात्रा का ये इमोशनल कार्ड कांग्रेस को कितना फायदा पहुंचता है।